वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बीजिंग
अपडेटेड मैट, 06 मई 2020 11:15 PM IST

ख़बर सुनता है

कोरोना की वजह से लगातार अमेरिका सहित तमाम देशों के निशाने पर रहने वाला चीन भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए अपनी रक्षा तैयारियां तेज कर रहा है। उसे आशंका है कि अमेरिका को विभाजित -19 परिस्थिति की बौखलाहट चीन के खिलाफ किसी न किसी तरह उटारेगा। इसे देखते हुए दक्षिणी चीन के समुद्र में चीन ने अपनी चौकसी बढ़ा दी है। कैरियर बेस्ड फाइटर जेट, युद्धपोत और पनडुब्बियों के जरिये चीन ने अपनी तैयारी की एक झलक दिखाई है।

चीन का दावा है कि अमेरिका ने हाल ही में चीन के दक्षिणी और पूर्वी समुद्र के ऊपर से बी 1 बी एयरक्राफ्ट से पड़ोस का जायज़ा लिया है। चीन का आरोप है मई दिवस के मौके पर भी अमेरिका ने इस इलाके में अपने लड़ाकू विमानों से चीन को ये जतलाने की कोशिश की है कि वह आने वाले वक्त में अपना हवाई सेवालांस और बढ़ा सकता है। अमेरिका की हरकतों को देखते हुए चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएवी) ने कहा है कि अगर अमेरिका उसे उकसाने की कोशिश करेगा तो चीन भी जवाब देने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

दक्षिणी चीन के समुद्र में पीव के सैन्य अभ्यास अक्सर चलते रहते हैं। हाल ही में लियोनिंग एयरक्राफ्ट कैरियर टास्क फोर्स ने यहां अपना अभ्यास खत्म किया है। इस दौरान प्रशांत वी नाम के जे -15 फाइटर जेट ने भी उड़ानभरभर अभ्यास किया था।

चीन के रक्षा विशेषज्ञ वी। डांगजू के मुताबिक अमेरिका अपने एयरक्राफ्ट चीन के इर्द-गिर्द भेजकर खुफिया जानकारी हासिल करने में लगा है।]अमेरिका के इस उकसावे की कार्रवाई को चीन बेहद गंभीरता से ले रहा है और इसे देखते हुए अपनी तैयारियों को और मजबूत कर रहा है, ताकि अगर जरूरत पड़े तो अमेरिका को इसका माकूल जवाब दिया जा सके।

कोरोना की वजह से लगातार अमेरिका सहित तमाम देशों के निशाने पर रहने वाला चीन भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए अपनी रक्षा तैयारियां तेज कर रहा है। उसे आशंका है कि अमेरिका को विभाजित -19 परिस्थिति की बौखलाहट चीन के खिलाफ किसी न किसी तरह उटारेगा। इसे देखते हुए दक्षिणी चीन के समुद्र में चीन ने अपनी चौकसी बढ़ा दी है। कैरियर बेस्ड फाइटर जेट, युद्धपोत और पनडुब्बियों के जरिये चीन ने अपनी तैयारी की एक झलक दिखाई है।

चीन का दावा है कि अमेरिका ने हाल ही में चीन के दक्षिणी और पूर्वी समुद्र के ऊपर से बी 1 बी एयरक्राफ्ट से पड़ोस का जायज़ा लिया है। चीन का आरोप है मई दिवस के मौके पर भी अमेरिका ने इस इलाके में अपने लड़ाकू विमानों से चीन को ये जतलाने की कोशिश की है कि वह आने वाले वक्त में अपना हवाई सेवालांस और बढ़ा सकता है। अमेरिका की हरकतों को देखते हुए चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएवी) ने कहा है कि अगर अमेरिका उसे उकसाने की कोशिश करेगा तो चीन भी जवाब देने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

दक्षिणी चीन के समुद्र में पीव के सैन्य अभ्यास अक्सर चलते रहते हैं। हाल ही में लियोनिंग एयरक्राफ्ट कैरियर टास्क फोर्स ने यहां अपना अभ्यास खत्म किया है। इस दौरान प्रशांत वी नाम के जे -15 फाइटर जेट ने भी उड़ानभरभर अभ्यास किया था।

चीन के रक्षा विशेषज्ञ वी। डांगजू के मुताबिक अमेरिका अपने एयरक्राफ्ट चीन के इर्द-गिर्द भेजकर खुफिया जानकारी हासिल करने में लगा है।]अमेरिका के इस उकसावे की कार्रवाई को चीन बेहद गंभीरता से ले रहा है और इसे देखते हुए अपनी तैयारियों को और मजबूत कर रहा है, ताकि अगर जरूरत पड़े तो अमेरिका को इसका माकूल जवाब दिया जा सके।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *