विदेश मंत्री एस। जयशंकर (फाइल फोटो)
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

विदेश मंत्री एस। जयशंकर शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बुधवार को होने वाली बैठक में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से भाग लेंगे। एससीओ के सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों की इस बैठक में मुख्य रूप से कोरोनावायरस से निपटने के मुद्दे पर बातचीत की जाएगी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि वीडियो कांफ्रेंस के दौरान आंतरिक और क्षेत्रीय मुद्दों के अलावा कोरोनावायरस के खिलाफ आपसी सहयोग पर भी बातचीत की जाएगी।

एक अधिकारी ने यहां पीटीआई से कहा कि को विभाजित -19 के मुद्दे पर बातचीत के लिए होने वाली यह एक असाधारण बैठक है। एससीओ के विदेशियों की नियमित बैठक नौ और 10 जून को मॉस्को में होनी है।

भारतीय अधिकारियों ने बताया कि जयशंकर ई सदस्य देशों की इस बैठक में शामिल होंगे। भारत और पाकिस्तान को 2017 में इस संगठन का सदस्य बनाया गया। एससीओ के संस्थापक सदस्यों में चीन, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं।

विदेश मंत्री एस। जयशंकर शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बुधवार को होने वाली बैठक में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से भाग लेंगे। एससीओ के सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों की इस बैठक में मुख्य रूप से कोरोनावायरस से निपटने के मुद्दे पर बातचीत की जाएगी।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि वीडियो कांफ्रेंस के दौरान आंतरिक और क्षेत्रीय मुद्दों के अलावा कोरोनावायरस के खिलाफ आपसी सहयोग पर भी बातचीत की जाएगी।

एक अधिकारी ने यहां पीटीआई से कहा कि को विभाजित -19 के मुद्दे पर बातचीत के लिए होने वाली यह एक असाधारण बैठक है। एससीओ के विदेशियों की नियमित बैठक नौ और 10 जून को मॉस्को में होनी है।

भारतीय अधिकारियों ने बताया कि जयशंकर ई सदस्य देशों की इस बैठक में शामिल होंगे। भारत और पाकिस्तान को 2017 में इस संगठन का सदस्य बनाया गया। एससीओ के संस्थापक सदस्यों में चीन, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed