देश में कोरोनावायरस के मामलों में तेजी से उठ हो रही है। लेकिन पूरी दुनिया को घुटने पर लाने वाला यह वायरस शायद भारत में भी भयावह न हो। अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस जैसे विकसित देशों में कोरोना से अब तक हजारों लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, भारत में स्थिति उस स्तर तक नहीं पहुंची है। केंद्र सरकार तो वर्तमान में यही कह रही है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार ने पूरे देश को बुरे से बुरे हालात के लिए तैयार किया है। उन्होंने कहा कि हम अपने देश में कई अन्य विकसित देशों की तरह बहुत खराब स्थिति का अनुमान नहीं लगा रहे हैं। भारत में उस तरह की स्थिति बनती नहीं दिख रही है।

डॉ। हर्षवर्धन ने जानकारी दी कि देश में को विभाजित -19 से होने वाली मृत्यु दर लगभग 3.3% बनी हुई है जो कि पूरी दुनिया में सबसे कम मृत्यु दर में शामिल है। उन्होंने बताया कि भारत में इस वायरस से उपचार के बाद ठीक होने की दर (रिकवरी रेट) 29.9% तक बढ़ गई है। मंत्री ने कहा कि ये बहुत अच्छे संकेतक हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने शनिवार को बताया कि पिछले तीन दिन में, कोविड -19 का डबलिंग रेट लगभग 11 दिन का रहा है। वहीं, अगर पिछले सात दिनों की बात करें तो डबलिंग रेट 9.9 दिन हो जाता है। हर्षवर्धन ने इन परिणामों को अच्छा बताया है।

कोरोना इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी लेने की नीति में बदलाव होते हैं
वहीं, कोरोना वायरस के संक्रमण से उबरने के बाद अब अस्पताल से छुट्टी मिलने की नीति में बदलाव हुआ है। शनिवार सुबह केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने इसे लेकर नई नीति जारी की। नए बदलावों के अनुसार अब हल्के मामलों में डिस्चार्ज से पहले परीक्षण की जरूरत को खत्म कर दिया गया है।

यदि रोगी में किसी तरह के लक्षण दिखाई देते हैं और हालात समान्य लगते हैं तो उसे सेलतला से 10 दिन में भी छुट्टी दी जा सकती है। छुट्टी मिलने के बाद अब उसे 14 दिन की बजाए सात दिन होम आइसोलेशन में रहना होगा। टेली-कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 14 वें दिन रोगी का फूट-अप लिया जाएगा।

चीरों की संख्या 60 हजार के लगभग
देशभर में कोरोनावायरस से अस्थिर रोगियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 3320 नए मामले सामने आए हैं और 95 लोगों की मौत हुई है।

इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 59,662 हो गई है, जिसमें 39,834 सक्रिय हैं, 17,847 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 1981 लोगों की मौत हो गई है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *