कोरोनावायरस केस न्यूज इन हिंदी: 2.05 करोड़ नौकरियां अमेरिका में महीने में खो गईं, दुनिया के सबसे समृद्ध देशों में बड़ी निराशा – दुनिया के सबसे समृद्ध देश में महामंडी, एक महीने में 2.05 करोड़ रुपये हो गए

Bytechkibaat7

May 10, 2020 , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,


ख़बर सुनता है

कोरोना के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था महामंदी के दलदल में धंसने शुरू हो गई है। अमेरिका को तो महामारी ने घोनों पर ला दिया है। अकेले अप्रैल में 2.05 करोड़ अमेरिकियों को नौकरी गंवानी पड़ी। वहाँ 10 साल में 2.28 करोड़ मिलीं, जिनमें से 90 प्रतिशत छिन गए हैं। बेरोजगारी दर 14.7 प्रतिशत हो गई है। अमेरिकी श्रम विभाग के मुताबिक, अकेले अप्रैल के बेरोजगारी के आंकड़ों ने नवंबर, 2009 में आई वैश्विक मंदी को भी पीछे छोड़ दिया है।

वहीं, अर्थशास्त्रियों का कहना है कि बेरोजगारी दर उच्च स्तर पर पहुंच सकती है। 1929 की महामंदी के दौरान भी कुछ ऐसी ही स्थिति थी। 1933 में अमेरिका में बेरोजगारी दर 25 प्रति थी यानी हर चौथा अमेरिकी बेरोजगार हो गया था। हालांकि, इस साल फरवरी में अमेरिका में बेरोजगारी दर 50 साल के न्यूनतम स्तर 3.5% पर आ गई थी। मार्च में यह 4.4 प्रतिशत था।

सबसे ज्यादा छंतनी … महिलाओं की
अप्रैल में 1.04 करोड़ पुरुषों की नौकरी गई। उनसे अधिक 1.19 करोड़ महिलाएं बेरोजगार हुई हैं। कोविद -19 का उन सेवा क्षेत्रों पर ज्यादा असर है, जहां महिलाएं ज्यादा संख्या में कार्यरत थीं। फरवरी में महिलाओं में बेरोजगारी दर 3.4 प्रतिशत थी, जो 16.2 प्रतिशत हो गई है। पुरुषों में यह आंकड़ा 3.6 प्रति से बढ़कर 13.5 प्रति हो गया है।

बड़ा संकट … खनक
अश्वेतों में बेरोजगारी दर 16.7 प्रतिशत पहुंच गई है। यह फरवरी के मुकाबले तीन गुना ज्यादा है और 2010 के बाद सबसे ज्यादा है। वहीं, गेसेनिक और लैटिन अमेरिकियो में बेरोजगारी दर 18.9 फीसदी हो गई है, जो मार्च में छह फीसदी थी। इस वर्ग में 1970 के बाद सबसे ज्यादा गए हैं।

पार्ट टाइम नौकरी करने वाले बढ़े
बेरोजगारी के ताजा आंकड़े ऐसे लाखों कर्मचारियों की तस्वीर पेश नहीं करते, जिन वेतन पर भारी कटौती हुई है। लगभग 1.1 करोड़ लोगों ने पार्ट टाइम नौकरी करने की बात कही है क्योंकि उन्हें फुल टाइम नौकरी नहीं मिली। यह आंकड़ा 40 लाख तक बढ़ गया है।

मैन्युफैक्चरिंग 13 लाख रु
निर्माण 9.75 लाख
कपड़ा दुकान 7.40 लाख
मोहन पिक्चर्स 2.17 लाख रु
कंप्यूटर 93 हजार
लॉ फर्म 64 हजार
ट्रक परिवहन 88 हजार
सरकार 8.01 लाख रु
अस्पताल-क्लीनिक 14 लाख

बड़ा कारण … सामाजिक दूरी की बाध्यता

  • 90 लाख लोगों ने खुद को बेरोजगार कहने की बजाय कार्यस्थल से अनुपस्थित बताया है।
  • सामाजिक दूरी की बाध्यता के कारण कंपनियों ने काफी कर्मचारियों को अस्थायी तौर पर हटा दिया है।
  • 1.81 करोड़ ने अपनी बेरोजगारी अस्थायी बताई। 20 लाख ने कहा, वे स्थायी रूप से बेरोजगार हो गए हैं।
बेरोजगारी बढ़ने का असर सीधे तौर पर अर्थव्यवस्था पर है। अर्थशास्त्रियों का कहना है कि अब 11 प्रतिशत रोजगार देने वाले हॉस्पिटैलिटी और ट्रेन-हवाई परिवहन जैसे क्षेत्रों को खोल देना चाहिए।

भर्तियां … केवल एक क्षेत्र में
जनरल मर्केंडाइज स्टोर्स ही ऐसा उद्योग है, जहां 93,400 लोगों की भर्तियां हुई हैं। कंप्यूटर बनाने वाली इकाइयों में 800, डाक सेवा में 500 और भंडारी विभाग में 100 भर्तियां हुईं।

ट्रम्प सरकार का सहारा
ट्रंप सरकार बेरोजगारी पर काबू पाने के लिए जुटी है। इसके तहत प्रत्येक बेरोजगार को 1200 डॉलर (90 हजार रुपये) दिए जा रहे हैं। बेरोजगारी बीमा लाभ बढ़ा दिया गया है। छोटे उद्योगों को आर्थिक मदद देने की तैयारी है ताकि वे छंटनी न करें।

सार

कोरोनावायरस के कारण अमेरिका में एक महीने में ही 2.05 करोड़ गए हैं। बीते 10 साल में यहां 2.28 करोड़ रुपये मिले थे। महामंडी की मार सबसे ज्यादा महिलाओं पर पड़ी है।

विस्तार

कोरोना के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था महामंदी के दलदल में धंसने शुरू हो गई है। अमेरिका को तो महामारी ने घोनों पर ला दिया है। अकेले अप्रैल में 2.05 करोड़ अमेरिकियों को नौकरी गंवानी पड़ी। वहाँ 10 साल में 2.28 करोड़ मिलीं, जिनमें से 90 प्रतिशत छिन गए हैं। बेरोजगारी दर 14.7 प्रतिशत हो गई है। अमेरिकी श्रम विभाग के मुताबिक, अकेले अप्रैल के बेरोजगारी के आंकड़ों ने नवंबर, 2009 में आई वैश्विक मंदी को भी पीछे छोड़ दिया है।

वहीं, अर्थशास्त्रियों का कहना है कि बेरोजगारी दर उच्च स्तर पर पहुंच सकती है। 1929 की महामंदी के दौरान भी कुछ ऐसी ही स्थिति थी। 1933 में अमेरिका में बेरोजगारी दर 25 प्रति थी यानी हर चौथा अमेरिकी बेरोजगार हो गया था। हालांकि, इस साल फरवरी में अमेरिका में बेरोजगारी दर 50 साल के न्यूनतम स्तर 3.5% पर आ गई थी। मार्च में यह 4.4 प्रतिशत था।

सबसे ज्यादा छंतनी … महिलाओं की

अप्रैल में 1.04 करोड़ पुरुषों की नौकरी गई। उनसे अधिक 1.19 करोड़ महिलाएं बेरोजगार हुई हैं। कोविद -19 का उन सेवा क्षेत्रों पर ज्यादा असर है, जहां महिलाएं ज्यादा संख्या में कार्यरत थीं। फरवरी में महिलाओं में बेरोजगारी दर 3.4 प्रतिशत थी, जो 16.2 प्रतिशत हो गई है। पुरुषों में यह आंकड़ा 3.6 प्रति से बढ़कर 13.5 प्रति हो गया है।

बड़ा संकट … खनक
अश्वेतों में बेरोजगारी दर 16.7 प्रतिशत पहुंच गई है। यह फरवरी के मुकाबले तीन गुना ज्यादा है और 2010 के बाद सबसे ज्यादा है। वहीं, गेसेनिक और लैटिन अमेरिकियो में बेरोजगारी दर 18.9 फीसदी हो गई है, जो मार्च में छह फीसदी थी। इस वर्ग में 1970 के बाद सबसे ज्यादा गए हैं।

पार्ट टाइम नौकरी करने वाले बढ़े
बेरोजगारी के ताजा आंकड़े ऐसे लाखों कर्मचारियों की तस्वीर पेश नहीं करते, जिन वेतन पर भारी कटौती हुई है। लगभग 1.1 करोड़ लोगों ने पार्ट टाइम नौकरी करने की बात कही है क्योंकि उन्हें फुल टाइम नौकरी नहीं मिली। यह आंकड़ा 40 लाख तक बढ़ गया है।


आगे पढ़ें

किस क्षेत्र में कितने अंक गए





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *