उत्तर पश्चिमी भारत सूची के लिए इसके पूर्वानुमान में इमदाद पहली बार के लिए गिलगित बाल्टिस्तान मुजफ्फराबाद को शामिल करें – मौसम विभाग ने पहली बार भविष्यवाणी सूची में गिलगित-बाल्टिस्तान को शामिल किया।


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अपडेटेड थू, 07 मई 2020 12:11 PM IST

मौसम विभाग ने सूची में गिल्ली-बल्टिस्तान और मुजफ्फग्राम को शामिल किया
– फोटो: आईएमडी

ख़बर सुनता है

देश में मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली संस्था भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने जम्मू और कश्मीर के अपने मौसम संबंधी उप-विभाग का उल्लेख ‘जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिल्ड-बल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद’ के रूप में करना शुरू कर दिया है। बता दें कि मुजफ्फग्राम और गिल्ट-बल्टिस्तान पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (—-ake) के अंतर्गत आते हैं।

सूची में परिवर्तन मंगलवार से आईएमडी द्वारा जारी उत्तर पश्चिमी भारत के दैनिक पूर्वानुमान में दिखाई देना शुरू हो गया है। दैनिक क्षेत्र-वार पूर्वानुमान पूरे उप-मंडल के लिए हैं न कि किसी विशिष्ट क्षेत्र के लिए। आईएमडी के वरिष्ठ अधिकारियों ने नाम में परिवर्तन की पुष्टि की है। देश में इस समय 36 मौसम संबंधी उप-मंडल हैं। उन्हें राज्य की सीमाओं के साथ परिभाषित किया गया है।

आईएमडी का कदम न केवल एक अलग केंद्र शासित प्रदेश के रूप में लद्दाख की बदली हुई स्थिति को दर्शाता है बल्कि एक महत्वपूर्ण अंतर्निहित संदेश भी देता है। ऐसा तब हुआ है जब कुछ दिनों पहले ही पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने संघीय सरकार को गिल्ली-बल्टिस्तान में चुनाव कराने की अनुमति दी है।

30 अप्रैल को पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने सरकार के आवेदन पर सुनवाई करते हुए गिल्ली-बल्टिस्तान में कार्यवाहक सरकार बनाने और प्रांतीय विधानसभा चुनाव कराने की अनुमति दी थी। सोमवार को भारत के विदेश मंत्रालय ने इस फैसले के खिलाफ अपना कड़ा विरोध जताते हुए कहा था कि पाकिस्तानी संस्थान के पास अवैध रूप से या जबरन कब्जे वाले क्षेत्रों में हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है।

मंत्रालय ने कहा था कि भारत इस तरह की कार्रवाई और पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर के क्षेत्रों में भौतिक परिवर्तन लाने के निरंतर प्रयास को पूरी तरह से खारिज करता है। इसी दिन पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने बयान जारी करते हुए भारत के आरोपों को खारिज किया था।

देश में मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली संस्था भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने जम्मू और कश्मीर के अपने मौसम संबंधी उप-विभाग का उल्लेख ‘जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिल्ड-बल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद’ के रूप में करना शुरू कर दिया है। बता दें कि मुजफ्फग्राम और गिल्ट-बल्टिस्तान पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (—-ake) के अंतर्गत आते हैं।

सूची में परिवर्तन मंगलवार से आईएमडी द्वारा जारी उत्तर पश्चिमी भारत के दैनिक पूर्वानुमान में दिखाई देना शुरू हो गया है। दैनिक क्षेत्र-वार पूर्वानुमान पूरे उप-मंडल के लिए हैं न कि किसी विशिष्ट क्षेत्र के लिए। आईएमडी के वरिष्ठ अधिकारियों ने नाम में परिवर्तन की पुष्टि की है। देश में इस समय 36 मौसम संबंधी उप-मंडल हैं। उन्हें राज्य की सीमाओं के साथ परिभाषित किया गया है।

आईएमडी का कदम न केवल एक अलग केंद्र शासित प्रदेश के रूप में लद्दाख की बदली हुई स्थिति को दर्शाता है बल्कि एक महत्वपूर्ण अंतर्निहित संदेश भी देता है। ऐसा तब हुआ है जब कुछ दिनों पहले ही पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने संघीय सरकार को गिल्ली-बल्टिस्तान में चुनाव कराने की अनुमति दी है।

30 अप्रैल को पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने सरकार के आवेदन पर सुनवाई करते हुए गिल्ली-बल्टिस्तान में कार्यवाहक सरकार बनाने और प्रांतीय विधानसभा चुनाव कराने की अनुमति दी थी। सोमवार को भारत के विदेश मंत्रालय ने इस फैसले के खिलाफ अपना कड़ा विरोध जताते हुए कहा था कि पाकिस्तानी संस्थान के पास अवैध रूप से या जबरन कब्जे वाले क्षेत्रों में हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है।

मंत्रालय ने कहा था कि भारत इस तरह की कार्रवाई और पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर के क्षेत्रों में भौतिक परिवर्तन लाने के निरंतर प्रयास को पूरी तरह से खारिज करता है। इसी दिन पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने बयान जारी करते हुए भारत के आरोपों को खारिज किया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *