अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली
अपडेटेड सत, 09 मई 2020 04:27 पूर्वाह्न IST

कोटला गांव में शराब के लिए भीड़ …
– फोटो: अमर उजाला

ख़बर सुनता है

ई-टोकन से शुक्रवार से शराब की बिक्री तो शुरू की गई लेकिन दुकानों के बाहर बिना टोकन वाले की भीड़ के सामने यह व्यवस्था भी कमतर पड़ी है। सर्वर सर्वर डाउन होने पर ई-टोकन वालों को भी घंटों इंतजार करना पड़ा। इसके अलावा टोकन में तय समय मिलने के बावजूद घंटों लाइन में लगकर शराब की खरीदारी करनी पड़ी। सामाजिक दूरी के पालन के लिए कई दुकानदारों ने अपने स्तर पर टोकन जारी किए। कुछेक दुकानों पर पुलिस के सहयोग से टोकन लेने वालों को राहत मिली।

सुबह से शराब के शौकीनों की लाइन
जगह: पूर्वी दिल्ली का कोटला गाँव
समय: रात 11:30 बजे
पूर्वी दिल्ली के कोटला गांव में सुबह से ही शराब खरीदने वालों की लाइन लग गई थी। यहां बिना टोकन वाले करीब ढाई से तीन सौ लोग लाइन में लगे थे तो ई-टोकन वाले 30-35। लोगों ने सामाजिक नियम की जमकर धज्जियां उड़ाईं। हालांकि पुलिस सख्ती बरती जा रही थी। ई-टोकन वालों को भी लाइन में लगने पर ही शराब मिल पा रही थी। इस केंद्र पर शराब के दुकानदार अपना टोकन भी जारी कर रहे थे।

बारी के लिए करने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा
जगह: कलपुरी
समय: दोपहर लगभग 12:30 बजे
इस शराब के केंद्र पर दो-दो लाइन शुरू हुई थी। एक लाइन में ई-टोकन वाले तो दूसरी लाइन में बिना टोकन वाले। बिना टोकन वालों को इस केंद्र पर जबरदस्त भीड़ उमड़ी थी। इस दुकान पर एक व्यक्ति को दो बोतल ही शराब दी जा रही थी। यहां प्रोग्रामिंग को अपनी बारी के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा।

बिना टोकन वालों को भी खरीद की इजाजत
जगह: गोल मार्केट
समय: दोपहर 12 बजे
गोल मार्केट स्थित शराब की दुकान पर तो लोगों का ताता लगा हुआ था। पुलिस लोगों को भीड़ लगाने से मना कर रही थी। पुलिस का कहना था कि सरकार ने ई-जारी जारी किया है। शराब की दुकान पर भीड़ को देखने के लिए ऐसा किया गया है। हालांकि बिना टोकन वालों को भी शराब खरीदने की इजाजत थी।

वसंत विहार में अनोखे तरह की सोशल डेस्टेंसिंग दिखीं। कई लोगों ने अपनी जगह लाइन में हेलीकॉप्टर, बोतल, बैग और बोरी लगा दी थी। लाइन बढ़ने के साथ ही लोग अपने सामान को आगे की तरफ खिसका रहे थे। कृष्णानगर में दुकान के बाहर कुछ लोगों ने लाइन में अपनी जगह पत्थर रख दी थी। एक निर्माता रोहित मल्होत्रा ​​ने बताया कि टोकन पर साढ़े दस से साढ़े ग्यारह का समय लिखा है, लेकिन एक बजे वाले को पहले मिल रहा है। शकरपुर उपाध्याय मार्ग के एक शराब के दुकान पर पहुंचे संजय कुमार का कहना था कि टोकन लेकर घूम रहे हैं पर शराब की दुकान अब तक खुली नहीं है।

ई-टोकन लेने में भी परेशानी हुई
सर्वर में गड़बड़ी की वजह से ई-टोकन लेने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। इस संबंध में आबकारी विभाग का कहना है कि जल्द ही इसे ठीक कर दिया जाएगा। सर्वर पर अधिक लोड की वजह से दिक्कतें आ रही हैं।

ई-टोकन से शुक्रवार से शराब की बिक्री तो शुरू की गई लेकिन दुकानों के बाहर बिना टोकन वाले की भीड़ के सामने यह व्यवस्था भी कमतर पड़ी है। सर्वर सर्वर डाउन होने पर ई-टोकन वालों को भी घंटों इंतजार करना पड़ा। इसके अलावा टोकन में तय समय मिलने के बावजूद घंटों लाइन में लगकर शराब की खरीदारी करनी पड़ी। सामाजिक दूरी के पालन के लिए कई दुकानदारों ने अपने स्तर पर टोकन जारी किए। कुछेक दुकानों पर पुलिस के सहयोग से टोकन लेने वालों को राहत मिली।

सुबह से शराब के शौकीनों की लाइन

जगह: पूर्वी दिल्ली का कोटला गाँव

समय: रात 11:30 बजे
पूर्वी दिल्ली के कोटला गांव में सुबह से ही शराब खरीदने वालों की लाइन लग गई थी। यहां बिना टोकन वाले करीब ढाई से तीन सौ लोग लाइन में लगे थे तो ई-टोकन वाले 30-35। लोगों ने सामाजिक नियम की जमकर धज्जियां उड़ाईं। हालांकि पुलिस सख्ती बरती जा रही थी। ई-टोकन वालों को भी लाइन में लगने पर ही शराब मिल पा रही थी। इस केंद्र पर शराब के दुकानदार अपना टोकन भी जारी कर रहे थे।

बारी के लिए करने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा
जगह: कलपुरी
समय: दोपहर लगभग 12:30 बजे
इस शराब के केंद्र पर दो-दो लाइन शुरू हुई थी। एक लाइन में ई-टोकन वाले तो दूसरी लाइन में बिना टोकन वाले। बिना टोकन वालों को इस केंद्र पर जबरदस्त भीड़ उमड़ी थी। इस दुकान पर एक व्यक्ति को दो बोतल ही शराब दी जा रही थी। यहां प्रोग्रामिंग को अपनी बारी के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा।

बिना टोकन वालों को भी खरीद की इजाजत
जगह: गोल मार्केट
समय: दोपहर 12 बजे
गोल मार्केट स्थित शराब की दुकान पर तो लोगों का ताता लगा हुआ था। पुलिस लोगों को भीड़ लगाने से मना कर रही थी। पुलिस का कहना था कि सरकार ने ई-जारी जारी किया है। शराब की दुकान पर भीड़ को देखने के लिए ऐसा किया गया है। हालांकि बिना टोकन वालों को भी शराब खरीदने की इजाजत थी।


आगे पढ़ें

अपनी जगह रेखा में हेलीकॉप्टर और पत्थर लगा दिए गए थे





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *