पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद पप्पन सिंह सेंगर, उनकी पत्नी नीरज व पुत्र रितिक
– फोटो: अमर उजाला

ख़बर सुनता है

इटावा जिले के बीहड़ी गांव मचल की मड़ैया के पास यमुना नदी में नाव पलटने से दो बच्चों की मौत हो गई है। ग्वालियर से एक परिवार लॉकडाउन में चोरी छिपे अपने घर बवाइन औरैया जा रहा था। नाव से नदी पार करते कब हादसा हो गया।

औरैया जिले के अजीतमल थाना क्षेत्र के बवाइन गांव निवासी पप्पन सिंह सेंगर (40) पुत्र जगदीश सिंह सेंगर मध्यप्रदेश के ग्वालियर में प्राथमिक बस परिचालक हैं और वहीं नालापार मोहल्ले में परिवार के साथ रहते हैं। रविवार सुबह 10 बजे पप्पन अपनी पत्नी नीरज (35), बेटे रितिक (14) व आर्यन (12) और साढ़ू प्रेमसिंह चौहान की बेटी ज्ञानू उर्फ ​​प्रीति (10) को लेकर ग्वालियर चले गए।

पांचों लोग ग्वालियर से एक मोटरसाइकिल व एक स्कूटी से शेरगढ़घाट तक आए। बाइक पप्पन और स्कूटी उनकी पत्नी चलाकर लाई। शेरगढ़घाट से उन्होंने यमुना नदी पार करने के लिए बो की। सभी ड्रा में बैठ गए। स्कूटी, बाइक व सामान भी नाव पर लाद लिया।

पोस्टमार्टम स्थल पर पप्पन ने बताया कि केवल सुबह करीब साढ़े 11 बजे बाइक का हैंडल ड्रा से नीचे की ओर झुका। नाविक ने उसे सीधा करने के लिए जैसे ही ड्रा की मुढ़ेर पर पांव रखा। ड्रा अनियंत्रित होकर बदल गया। जिस जगह हादसा हुआ। वहाँ पानी बहुत गहरा नहीं था।
लिहाजा पप्पन किसी तरह हाथ पांव मारते हुए किनारे की ओर आ गए। उनकी पत्नी नीरज तैरना जानती है। उन्होंने रितिक, आर्यन व ज्ञानू को पकड़कर बाहर निकाला। लेकिन आर्यन व ज्ञानू जब तक बाहर पाए गए। उनके शरीर में काफी पानी भर चुका था। नाविक ड्रा को छोड़कर भाग गया। सूचना मिलने पर पहुंंची पुलिस आर्यन व ज्ञानू की नाजुक हालत को देखते हुए राजपुर सीएचसी ले गई। जहां उन्हें जिला अस्पताल लाया गया। यहां डाक्टर जयेश ने दोनों बच्चों को मृत घोषित कर दिया।

पप्पन ने बताया कि उनकी मां कमलेश कुमारी गांव में रहती हैं। उनकी तबियत ठीक नहीं है उन्हें देखने के लिए ही जा रहे थे। वहीं बेटे रितिक ने बताया कि यमुना का पुल सही न होने की वजह से सभी लोग ड्रा से नदी को पार कर रहे थे। लेकिन नाव के पलटते ही नाविक खुद तैर कर भाग गया। जब आर्यन व ज्ञानू को पानी से बाहर निकाला गया।

तब उनकी सांसें चल रही थीं। लेकिन एकर्न्स ली आई। जिससे उनकी मृत्यु हो गई। सीओ चकरनगर मस्सा सिंह ने बताया कि परिवार ग्वालियर से आया था। लॉकडाउन के कारण वह सड़क से न निकल पाने की वजह से नदी के रास्ते औरैया जिले के बवाइन गांव जा रहे थे। हादसे में दो बच्चों की मौत हो गई।

इटावा जिले के बीहड़ी गांव मचल की मड़ैया के पास यमुना नदी में नाव पलटने से दो बच्चों की मौत हो गई है। ग्वालियर से एक परिवार लॉकडाउन में चोरी छिपे अपने घर बवाइन औरैया जा रहा था। नाव से नदी पार करते कब हादसा हो गया।

औरैया जिले के अजीतमल थाना क्षेत्र के बवाइन गांव निवासी पप्पन सिंह सेंगर (40) पुत्र जगदीश सिंह सेंगर मध्यप्रदेश के ग्वालियर में प्राथमिक बस परिचालक हैं और वहीं नालापार मोहल्ले में परिवार के साथ रहते हैं। रविवार सुबह 10 बजे पप्पन अपनी पत्नी नीरज (35), बेटे रितिक (14) व आर्यन (12) और साढ़ू प्रेमसिंह चौहान की बेटी ज्ञानू उर्फ ​​प्रीति (10) को लेकर ग्वालियर चले गए।

पांचों लोग ग्वालियर से एक मोटरसाइकिल व एक स्कूटी से शेरगढ़घाट तक आए। बाइक पप्पन और स्कूटी उनकी पत्नी चलाकर लाई। शेरगढ़घाट से उन्होंने यमुना नदी पार करने के लिए बो की। सभी ड्रा में बैठ गए। स्कूटी, बाइक व सामान भी नाव पर लाद लिया।

पोस्टमार्टम स्थल पर पप्पन ने बताया कि केवल सुबह करीब साढ़े 11 बजे बाइक का हैंडल ड्रा से नीचे की ओर झुका। नाविक ने उसे सीधा करने के लिए जैसे ही ड्रा की मुढ़ेर पर पांव रखा। ड्रा अनियंत्रित होकर बदल गया। जिस जगह हादसा हुआ। वहाँ पानी बहुत गहरा नहीं था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *