• महामारी शुरू होने के बाद अब कनाडा में 30 लाख से अधिक होने वाली बेरोजगारी
  • मार्च में 10 लाख से ज्यादा लोगों की नौकरी छूटी, अप्रैल में करीब 20 लाख बेरोजगार हुए

दैनिक भास्कर

09 मई, 2020, 02:20 PM IST

नई दिल्ली। कोविड -19 महामारी शुरू होने के बाद से अब तक कनाडा में 30 लाख से अधिक लोग बेरोजगार हो चुके हैं। यह बात स्टैटिस्टिक्स कनाडा ने एक रिपोर्ट में शुक्रवार को कही। मार्च की तुलना में अप्रैल में लगभग दोगुना लोग बेरोजगार हुए। मार्च में कनाडा में 10 लाख से ज्यादा लोगों की नौकरी छूट गई थी। अप्रैल में लगभग 20 लाख लोग बेरोजगार हो गए। इसके साथ ही कनाडा में बेरोजगारी की दर 5.2 प्रति अंक से बढ़कर 13 प्रति पर पहुंच गई, जो दिसंबर 1982 से अब तक का दूसरा सबसे बड़ा आंकड़ा है। ”

अन्य लोगों को शामिल करने पर बेरोजगारी दर 18 प्रति होने की आशंका
स्टैटिस्टिक्स कनाडा ने अपनी मासिक रिपोर्ट में कहा कि 11 लाख लोग ऐसे थे जो महामारी के कारण कंपनियों के बंद होने से काम नहीं कर पाए और जिन्होंने दूसरा काम ढूंढना बंद कर दिया। यदि इन लोगों को भी आंकड़े में जोड़ लिया जाए, तो अप्रैल में कनाडा की बेरोजगारी दर और लगभग 18 प्रतिशत पर पहुंच जाएगी। कर्मचारियों को कंपनियों के पेरोल पर बनाए रखने के लिए सरकार ने एक तय कार्यक्रम शुरू किया है। इसके तहत अधिकतम 610 अमेरिकी डॉलर का साप्ताहिक वेतन उठाने वाले कर्मचारियों के लिए कंपनियों सरकार से 75 प्रतिशत सब्सिडी हासिल कर सकते हैं। यह 12 सप्ताह तक दी जाएगी, जो 6 जून को समाप्त हो जाएगी।

77 लाख ने कनाडा इमर्जेंसी रिस्पांस बनाएफिट के लिए आवेदन किया है
कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्र्रूडू ने शुक्रवार को अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कनाडा इमर्जेंसी वेजेडी कार्यक्रम को आगे बढ़ाया जाएगा, ताकि कंपनियों का परिचालन फिर से शुरू हो और रोजगार बढ़ाने में मदद मिले। अगले सप्ताह इसके जारी किए जाएंगे। गुरुवार तक 1.2 लाख कंपनियों ने वेजेडी कार्यक्रम का लाभ लेने के लिए आवेदन किया था। इसका लाभ 17 लाख कर्मचारियों को मिलेगा। इसके अलावा कनाडा के लगभग 77 लाख नागरिकों ने कनाडा इमर्जेंसी रिस्पांस बनाएफिट के लिए आवेदन किया है। यह कार्यक्रम दिसंबर तक चलेगा। इसके तहत बेरोजगार लोगों को तीन महीने तक हर हफ्ते 400 डॉलर मिलेंगे।

रोजगार की दर में रिकॉर्ड 15.7 प्रतिशत की गिरावट आई है
रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल में रोजगार की दर में रिकॉर्ड गिरावट आई है। फरवरी के मुकाबले रोजगार की दर 15.7 फीसदी कम हो गई है। इससे पहले की आर्थिक सुस्ती में रोजगार की दर में हुई गिरावट के मुकाबले ज्यादा है। 1981-82 की सुस्ती में 17 महीने की अवधि में रोजगार में 5.4 प्रतिशत की गिरावट आाई थी। फरवरी के मुकाबले अप्रैल में ऐसे लोगों की संख्या 25 लाख बढ़ गई है, जो बेरोजगार तो नहीं हुए हैं, लेकिन वायरस के कारण उनके काम का घंटा आधा से भी कम रह गया है। 12 अप्रैल तक कोरोनावायरस लॉकडाउन के कारण ऐसे लोगों की कुल संख्या 55 लाख हो गई है, जो या तो बेरोजगार हो चुके हैं या जिनके काम का घंटा काफी कम रह गया है। यह फरवरी की रोजगार संख्या का एक तिहाई से ज्यादा है।

अधिक पात्र माने जाने वाले सेक्टरों में नहीं है बेरोजगारी
अप्रैल में साल-दर-साल आधार पर प्रति घंटा औसत वेतन में लगभग 11 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। हालांकि स्टैटिस्टिक्स कनाडा के मुताबिक इसका एक कारण यह भी है कि कम वेतन देने वाले उद्योग में काम करने वालों की संख्या घट गई है। इनमें अकोमोडेशन, खाद्य सेवाएं सेक्टर, होलसेल और रिटेल सेक्टर शामिल हैं। अधिक वेतन देने वाले उद्योगों में काम करने वालों की नौकरी नहीं छूटी है, क्योंकि वे घर से काम कर सकते हैं। इन लोक प्रशासन के कर्मचारी, पेशेवर, वैज्ञानिक और तकनीकी कर्मचारी शामिल हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *