वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, वाशिंगटन
Updated Tue, 09 Jun 2020 01:21 AM IST

ख़बर सुनें

आराम हर किसी को चाहिए भले वह तकनीक हो या कोई जीव। अगर अच्छा काम करना है तो पर्याप्त नींद और आराम की जरूरत होती है। इसी तरह कृत्रिम मस्तिष्क को भी आराम के लिए नींद की जरूरत होती है। लोस अलामोस नेशनल यूनिवर्सिटी के अध्ययन में ये खुलासा हुआ है। शोधकर्ता वैज्ञानिक डॉ. इजिंग वॉटकिन्स बताते हैं कि कृत्रिम मस्तिष्क में भी न्यूरल नेटवर्क होते हैं जो मस्तिष्क के बराबर काम करता है और चीजों को याद रखता है। 

वे बताते हैं कि लगातार काम करने और काम का दबाव अधिक होने की वजह से नेटवर्क सिमुलेशन अस्थिर हो जाता है। इसका सीधा असर मशीन और उसकी कार्यक्षमता पर पड़ता है। यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर साइंटिस्ट डॉ. गैरेट केन्यॉन का कहना है कि अब अगली तैयारी ये स्पष्ट करना है कि कृत्रिम मस्तिष्क को आराम की जरूरत पड़ती है तो क्या एंड्रॉयड तकनीक में भी ऐसा ही जो भविष्य में और अधिक इस्तेमाल होगी।

आराम हर किसी को चाहिए भले वह तकनीक हो या कोई जीव। अगर अच्छा काम करना है तो पर्याप्त नींद और आराम की जरूरत होती है। इसी तरह कृत्रिम मस्तिष्क को भी आराम के लिए नींद की जरूरत होती है। लोस अलामोस नेशनल यूनिवर्सिटी के अध्ययन में ये खुलासा हुआ है। शोधकर्ता वैज्ञानिक डॉ. इजिंग वॉटकिन्स बताते हैं कि कृत्रिम मस्तिष्क में भी न्यूरल नेटवर्क होते हैं जो मस्तिष्क के बराबर काम करता है और चीजों को याद रखता है। 

वे बताते हैं कि लगातार काम करने और काम का दबाव अधिक होने की वजह से नेटवर्क सिमुलेशन अस्थिर हो जाता है। इसका सीधा असर मशीन और उसकी कार्यक्षमता पर पड़ता है। यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर साइंटिस्ट डॉ. गैरेट केन्यॉन का कहना है कि अब अगली तैयारी ये स्पष्ट करना है कि कृत्रिम मस्तिष्क को आराम की जरूरत पड़ती है तो क्या एंड्रॉयड तकनीक में भी ऐसा ही जो भविष्य में और अधिक इस्तेमाल होगी।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *