खबरी, अमर उजाला, नई दिल्ली

द्वारा प्रकाशित: प्रंजुल श्रीवास्तव
अपडेट किया गया शुक्र, 21 जनवरी 2022 दोपहर 12:50 बजे IST

सर

इंडिया गेट परगी सुभाष चंद्रा की हवा। नरेंद्र मोदी ने यह जानकारी अपने मीडिया के मीडिया से साझा की है।

इंडिया गेट परगी नेताजी चंद्रा की छवि
– फोटो: ANI

खबर

इंडिया गेट पर नेताजी सुभाषित की स्थिति। इस बात की जानकारी मीडिया ने पोस्ट की। इस तरह से लिखा गया था कि इस तरह के समय में गर्व से श्रेष्ठ होना चाहिए। यह प्रति भारत के ऋणी होने का चिह्न है।

. मैं

इस संबंध में
प्राधानमंत्री नारांद्र मोदी ने यह एलियन ऐESE VKAT पर क्लिक किया है ️ दरअसल️ दरअसल️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ️ कांग्रेस

कांग्रेस कुल देश शहीद शहीद। अमर ज्योतिर्मय नहीं एक बार फिर जलेगा।

इंदिरा गांधी ने 1972 में सूरज की रोशनी में चमकाया
अस्त-व्यस्तता की स्थिति में अस्त होने की स्थिति में भी वह 1971 के भारत-पाक युद्ध में अमर रहे। इस जीत पर नजर आने वाला था। इंदिरा गांधी ने 26 जनवरी 1972 को अमर स्तवन का संदेश दिया था।

कटि

इंडिया गेट पर नेताजी सुभाषित की स्थिति। इस बात की जानकारी मीडिया ने पोस्ट की। इस तरह से लिखा गया था कि इस तरह के समय में गर्व से श्रेष्ठ होना चाहिए। यह प्रति भारत के ऋणी होने का चिह्न है।

. मैं

इस संबंध में

प्राधानमंत्री नारांद्र मोदी ने यह एलियन ऐESE VKAT पर क्लिक किया है ️ दरअसल️ दरअसल️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ ️ कांग्रेस

कांग्रेस कुल देश शहीद शहीद। अमर ज्योतिर्मय नहीं एक बार फिर जलेगा।

इंदिरा गांधी ने 1972 में सूरज की रोशनी में चमकाया

अस्त-व्यस्तता की स्थिति में अस्त होने की स्थिति में भी वह 1971 के भारत-पाक युद्ध में अमर रहे। इस जीत पर नजर आने वाला था। इंदिरा गांधी ने 26 जनवरी 1972 को अमर स्तवन का संदेश दिया था।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *