• पश्चिम बंगाल में तूफान अम्फान की वजह से 72 लोगों की मौत हुई है
  • पश्चिम बंगाल में हवा की रफ्तार 190 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच गई थी

दैनिक भास्कर

May 21, 2020, 09:26 PM IST

कोलकाता/भुवनेश्वर/ढाका. कोलकाता के लोगों ने शायद ही कभी ऐसा भयानक मंजर देखा होगा। बुधवार को आए अम्फान तूफान से आधा शहर पानी में डूब गया। जहां पानी नहीं भरा, वहां आसमान से तबाही बरसी और सब कुछ बर्बाद हो गया।

जिस घर को बनाने में पूरी जिंदगी लगा दी, वो पलक झपकते ही आंखों के सामने जमींदोज हो गया। पूरी की पूरी सड़क उखड़ गई।बड़े-बड़े दरख्तों को तूफान ने जड़ से उखाड़ फेंका। दुकानों और घरों में पानी भर गया।बंगाल की खाड़ी से शुरू हुआ तूफान बांग्लादेश, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में मौत का कहर बनकर टूटा। तस्वीरों में देखिए तबाही का कैसा मंजर था… 

 
ये फोटो कोलकाता के कॉलेज स्ट्रीट का है। इसे एशिया का दूसरा सबसे पुराना किताबों का मार्केट माना जाता है। तूफान और बारिश के बाद यहां पानी भर गया। 
यह फोटो पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता की है। यहां साइक्लोन अम्फान की वजह से पेड़ कार पर गिर गया।
ओडिशा के भद्रक जिले में भी अम्फान से काफी नुकसान हुआ है। यहां साइक्लोन की वजह से हुई तेज बारिश में कई गांव डूब गए।
 चक्रवाती तूफान अम्फान की ताकत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि कई नावें रस्सी टूटने के कारण नदी में काफी दूर तक चली गईं।
ये तस्वीर कोलकाता की है। तूफान शांत होने के बाद बस्ती में रहने वाले लोग अपनी झुग्गियों को ठीक करते हुए।
तूफान ने कोलकाता एयरपोर्ट पर भारी तबाही मचाई। पूरा परिसर पानी में डूब गया है। कई विमान भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं।
तूफान के चलते कोलकाता में बड़े-बड़े पेड़ों ने एक झटके में घरों को जमींदोज कर दिया। इसमें कई लोगों की जान चली गई।
कोलकाता में सबसे ज्यादा नुकसान पेड़ों के घरों पर गिरने की वजह से हुआ।
कोलकाता में सड़कों पर जलभराव हो गया है। इससे लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *