राजनाथ सिंह और रूसी रक्षामंत्री जनरल सर्गेई शोइगू
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

भारत के कहने पर रूस सीमापार आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति नहीं करेगा। रूस के दौरे पर गए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और रूसी रक्षामंत्री जनरल सर्गेई शोइगू के बीच मॉस्को में हुई बैठक के दौरान यह प्रतिबद्धता रूस की तरफ से जताई गई। दोनों के बीच एक घंटे तक हुई बैठक में रक्षा-सुरक्षा समेत दोनों देशों में सहयोग के व्यापक क्षेत्रों पर चर्चा की गई।

राजनाथ सिंह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के रक्षामंत्रियों की संयुक्त बैठक में भाग लेने और रूसी विजय दिवस के मौके पर 75वीं वर्षगांठ के कार्यक्रम में भाग लेने के लिए रूस की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं। राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, हमने कई मुद्दों समेत दोनों देशों में रक्षा-सुरक्षा संबंध की मजबूती पर खासतौर पर बातचीत की।

इस बीच, भारतीय नौसेना व रूसी नौसेना के बीच द्विवार्षिक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास का 11वां संस्करण 4 से 5 सितंबर तक बंगाल की खाड़ी में निर्धारित है। सिंह ने कहा, इन अभ्यासों ने हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा में दोनों देशों के साझा हितों का प्रदर्शन किया। रक्षामंत्री ने जनरल शोइगू को मेक-इन-इंडिया रक्षा कार्यक्रम के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संदर्भ में जानकारी भी दी।

रूस के समर्थन की सराहना
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रूस द्वारा भारत की रक्षा और सुरक्षा जरूरतों के मुताबिक दिए जा रहे लगातार समर्थन के लिए सराहना की। इस संदर्भ में उन्होंने रूस के साथ हथियार प्रणालियों की खरीद का भी जिक्र किया। बयान में कहा गया कि समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए दोनों पक्ष संपर्क बनाए रखेंगे।

एके-203 रायफलों पर चर्चा का स्वागत
भारत और रूस ने अत्याधुनिक एके-203 असॉल्ट रायफलों का उत्पादन भारत में करने के एक बड़े समझौते को भी अंतिम रूप दिया। दोनों पक्षों ने रायफलों के उत्पादन के लिए भारत-रूस संयुक्त उद्यम की भारत में स्थापना के लिए चर्चा के अग्रिम चरण का स्वागत किया। इसे पैदन सेना के लिए उपलब्ध सर्वाधिक आधुनिक हथियार माना जाता है।

रूसी सेनाओं के कैथेड्रल का किया दौरा
राजनाथ सिंह ने शुक्रवार सुबह मॉस्को में रूसी सशस्त्र बलों के मॉस्को स्थित मुख्य ‘कैथेड्रल’ और संग्रहालय परिसर का दौरा किया। इस चर्च की शुरुआत इसी साल 20 जून को की गई थी। चर्च में कुल 6 गुंबद हैं, जिन्हें रूस की सेना की 6 टुकड़ियों को समर्पित किया गया है। यहां मौजूद संग्रहालय में रूसी सेना के इतिहास और युद्ध में जीत की जानकारी दी गई है।

सार

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और रूसी समकक्ष जनरल सर्गेई शोइगू में चर्चा के दौरान बनी सहमति
 

विस्तार

भारत के कहने पर रूस सीमापार आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति नहीं करेगा। रूस के दौरे पर गए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और रूसी रक्षामंत्री जनरल सर्गेई शोइगू के बीच मॉस्को में हुई बैठक के दौरान यह प्रतिबद्धता रूस की तरफ से जताई गई। दोनों के बीच एक घंटे तक हुई बैठक में रक्षा-सुरक्षा समेत दोनों देशों में सहयोग के व्यापक क्षेत्रों पर चर्चा की गई।

राजनाथ सिंह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के रक्षामंत्रियों की संयुक्त बैठक में भाग लेने और रूसी विजय दिवस के मौके पर 75वीं वर्षगांठ के कार्यक्रम में भाग लेने के लिए रूस की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं। राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, हमने कई मुद्दों समेत दोनों देशों में रक्षा-सुरक्षा संबंध की मजबूती पर खासतौर पर बातचीत की।

इस बीच, भारतीय नौसेना व रूसी नौसेना के बीच द्विवार्षिक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास का 11वां संस्करण 4 से 5 सितंबर तक बंगाल की खाड़ी में निर्धारित है। सिंह ने कहा, इन अभ्यासों ने हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा में दोनों देशों के साझा हितों का प्रदर्शन किया। रक्षामंत्री ने जनरल शोइगू को मेक-इन-इंडिया रक्षा कार्यक्रम के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संदर्भ में जानकारी भी दी।

रूस के समर्थन की सराहना
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रूस द्वारा भारत की रक्षा और सुरक्षा जरूरतों के मुताबिक दिए जा रहे लगातार समर्थन के लिए सराहना की। इस संदर्भ में उन्होंने रूस के साथ हथियार प्रणालियों की खरीद का भी जिक्र किया। बयान में कहा गया कि समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए दोनों पक्ष संपर्क बनाए रखेंगे।

एके-203 रायफलों पर चर्चा का स्वागत
भारत और रूस ने अत्याधुनिक एके-203 असॉल्ट रायफलों का उत्पादन भारत में करने के एक बड़े समझौते को भी अंतिम रूप दिया। दोनों पक्षों ने रायफलों के उत्पादन के लिए भारत-रूस संयुक्त उद्यम की भारत में स्थापना के लिए चर्चा के अग्रिम चरण का स्वागत किया। इसे पैदन सेना के लिए उपलब्ध सर्वाधिक आधुनिक हथियार माना जाता है।

रूसी सेनाओं के कैथेड्रल का किया दौरा
राजनाथ सिंह ने शुक्रवार सुबह मॉस्को में रूसी सशस्त्र बलों के मॉस्को स्थित मुख्य ‘कैथेड्रल’ और संग्रहालय परिसर का दौरा किया। इस चर्च की शुरुआत इसी साल 20 जून को की गई थी। चर्च में कुल 6 गुंबद हैं, जिन्हें रूस की सेना की 6 टुकड़ियों को समर्पित किया गया है। यहां मौजूद संग्रहालय में रूसी सेना के इतिहास और युद्ध में जीत की जानकारी दी गई है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *