बिज़नेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अपडेटेड सत, 09 मई 2020 05:56 PM IST

ख़बर सुनता है

वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही निजी क्षेत्र की आईसीआईसीआई बैंक के लिए शानदार रही। इस वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में बैंक का एकल शुल्क लाभ 26 प्रति बढ़ा है। इस दौरान कंपनी को 1,221 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ है। इसकी तुलना अगर पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही से की जाए तो इस दौरान बैंक ने 969 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था।

शेयर बाजारों को दी गई जानकारी में बैंक ने बताया कि वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही के दौरान उसकी कुल आय 23,443.66 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक की कुल आय 20,913.82 करोड़ रुपये थी।

संपत्ति की बात की जाए, तो 31 मार्च, 2020 तक आईसीआईसीआई बैंक की एनपीए कुल ऋण का 5.53 प्रति था। वहीं, 31 मार्च, 2019 तक बैंक का सकल एनपीए 6.70 प्रति था। वहीं, बैंक का शुद्ध एनपीए 1.41 प्रतिशत पर आ गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 2.06 प्रतिशत के स्तर पर था।

वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही निजी क्षेत्र की आईसीआईसीआई बैंक के लिए शानदार रही। इस वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में बैंक का एकल शुल्क लाभ 26 प्रति बढ़ा है। इस दौरान कंपनी को 1,221 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ है। इसकी तुलना अगर पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही से की जाए तो इस दौरान बैंक ने 969 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था।

शेयर बाजारों को दी गई जानकारी में बैंक ने बताया कि वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही के दौरान उसकी कुल आय 23,443.66 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक की कुल आय 20,913.82 करोड़ रुपये थी।

संपत्ति की बात की जाए, तो 31 मार्च, 2020 तक आईसीआईसीआई बैंक की एनपीए कुल ऋण का 5.53 प्रति था। वहीं, 31 मार्च, 2019 तक बैंक का सकल एनपीए 6.70 प्रति था। वहीं, बैंक का शुद्ध एनपीए 1.41 प्रतिशत पर आ गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 2.06 प्रतिशत के स्तर पर था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *