• भारत में 2020 में जीडीपी में कोई वृद्धि नहीं दिखेगी
  • 2021 में 7.7 प्रतिशत की वृद्धि के साथ वापसी होगी

दैनिक भास्कर

12 मई, 2020, 05:43 PM IST

मुंबई। मॉर्गन स्टेनली को उम्मीद है कि वैश्विक आर्थिक विकास 2020 में 3 प्रतिशत तक घट सकता है। 2021 में यह 5.9 प्रतिशत तक सुधार करेगा। भारत में इस दौरान यानी 2020 में जीडीपी में कोई वृद्धि (0 प्रतिशत) नहीं दिखेगी लेकिन उम्मीद है कि यह 2021 में तेजी से 7.7 प्रतिशत तक सुधार करेगी।

जीडीपी वृद्धि में भारत से आगे तीन देश होंगे

मॉर्गन स्टेनली के मुताबिक 7.7 प्रतिशत की भारत की वृद्धि उसे एशिया एक्स जापान क्षेत्र में चौथी सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बनाती है। केवल वर्ष (2021 में जीडीपी ग्रोथ 12.6 प्रतिशत), मलेशिया (9.6 प्रतिशत) और चीन (9.2 प्रतिशत) केवल भारत आगे निकल जाएगा। मॉर्गन स्टेनली के दोस्तों ने जोनाथन एफ गार्नर, उनके मुख्य एशिया और उभरते बाजार रणनीतिकार के साथ मिलकर हाल ही में एक रिपोर्ट में लिखा था।

वैश्विक अर्थव्यवस्था गंभीर मात्रा की ओर बढ़ रही है

रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था महामारी जैसी युद्ध के बाद अपनी सबसे गंभीर संदेह की ओर बढ़ रही है। हालाँकि 2020-21 की सेकंडॉप में पॉलिसी ईजिंग, कोविड -19 के कम होने से अर्थव्यवस्था की वापसी की गुंजाइश है। मॉर्गन स्टेनली के अलावा, ज्यादातर अर्थशास्त्री वैश्विक विकास के लिए अपने पहले के अनुमान को संशोधित कर रहे हैं। कोविद -19 महामारी ने दुनिया भर में आर्थिक गतिविधियों को ठप कर दिया है।

कई रेटिंग एजेंसियों ने पहले ही चेताया है

पिछले कुछ हफ्तों में गोल्डमैन सैक्स, नोमुरा और मूडीज के प्रदर्शन ने महामारी के आर्थिक नतीजों के खिलाफ सटीकता की है। साथ ही अपने जीडीपी के पहले के अनुमानों को तेजी से बदला है। भारत में वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी में 5.2 प्रतिशत (पहले 0.5 प्रतिशत के रहने का पूर्वानुमान) का अनुमान सबसे तेज रहा है। मॉर्गन स्टेनली की रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया भर में (जी 4+ ब्रिक) में महंगाई बढ़ने की उम्मीद है। हालाँकि भारत को 2020 और 2021 में इसे 4 प्रतिशत पर अधिक पाने में सक्षम होना चाहिए। वैश्विक स्तर पर मॉर्गन स्टेनली का पूर्वानुमान 2020 के लिए 1.7 प्रतिशत और 2021e के लिए 2.1 प्रतिशत है।

आईआरआई इमर्जिंग मार्केट इंडेक्स में गिरावट होगी

बेस केस के तौर पर मॉर्गन स्टेनली को उम्मीद है कि http://www.I इमर्जिंग मार्केट इंडेक्स (http://www.I ईएम) दिसंबर 2020 तक 912 के अपने मौजूदा स्तर से 12 प्रति घटकर 800 अंक पर आ जाएगा। तेजी के परिदृश्य में, यह इस सूचकांक को 1050 पर देखता है जो वर्तमान स्तर से 15 प्रतिशत ज्यादा है और 650 के मौजूदा स्तर से 29% कम है। गार्नर का मानना ​​है कि बाजार हाल में आई गिरावट से उबरने में सक्षम नहीं होगा।

चीन और जापान आउट परफार्मेंस को बढ़ाते रहेंगे

रिपोर्ट के अनुसार हमें लगता है कि बॉटम अपोलर इस वास्तविकता से आधे अधूरे ही परिचित हैं। जिस तरह से परिस्थितियां विकट होती रही हैं उसे देख कर हमें लगता है कि बाजार में हाल ही में तेजी से वसूली को बनाए रखने की जरूरत नहीं है। गार्नर को उम्मीद है कि चीन और जापान अपने सेक्यूलर आउटपरफॉर्मेंस को आगे बढ़ाते रहेंगे। गार्नर कहते हैं कि दोनों पक्षों ने वास्तव में ईएम ईयर-टू-डाट (वाईटीडी) को मात दी है। उन्होंने कहा, इस बीच हम क्वालिटी को फंडिंग रिस्क और व्यापक बड़ी आर्थिक अस्थिरता को देखते हुए टिकाऊ प्रतिस्पर्धी लाभ (टिकाऊ प्रतिस्पर्धी लाभ) के महत्व को प्राथमिकता देते हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *