वाशिंगटन: चीन (चीन) फै वुहान स्थित एमबीए से फैले कोरोनावायरस (कोरोनावायरस) की कहानी को लेकर परंपराओं में चर्चा हो रही है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कोरोनावायरस को वुहान अरब में ही बनाए जाने का दावा किया है। उनका दावा है कि सरकार के पास इस बात का सबूत भी है। अमेरिका के विदेश मंत्री ने बुधवार को कहा कि ट्रम्प सरकार के पास इतनी जानकारी है। जिससे उन्हें यह विश्वास है कि घातक कोरोनावायरस चीन के वुहान की जापान में ही बना है।

पोम्पियो ने एक इंटरव्यू में कहा, संबंध हमने इस संबंध में जो खुफिया जानकारी जुटाई है। मैं उसके बारे में नहीं बता सकता लेकिन हमारे पास इतनी जानकारी है कि हम अब हमें इस बात पर पूरा भरोसा है। ‘पोम्पियो ने आगे कहा कि उन्होंने इस बात के सबूत देखे हैं कि यह कोरोनावायरस’ वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ‘से निकला है। । उन्होंने कहा, ‘हमें इस बात की तह तक जाना चाहिए इसीलिए हम पिछले कई महीनों से कह रहे हैं कि पश्चिमी देशों को अपनी देश देनी चाहिए।’

पोम्पियो ने फिर कहा, ‘यहां जो हुआ, वह नहीं होना चाहिए था। हमें पता है कि यह चीन के वुहान से निकला है। हमें पता है कि चीन को कम से कम दिसंबर तक इस बारे में जानकारी हो गई थी लेकिन उन्होंने तुरंत कार्रवाई नहीं की और चीन के कहने पर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे समय रहते हुए वैश्विक महामारी घोषित नहीं किया। ‘

ये भी पढ़ें- देश ने रिस अरब ली यूनिट बिजली, आप अपने घर में कितने रिसते हैं?

उन्होंने कहा, ‘वर्तमान में हमें केवल इसी जानकारी पर काम करने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि हमें महामारी को कम करने और आगे ऐसा न हो, इस पर भी काम करना चाहिए।’

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मामले पर पोम्पियो ने कहा, ओ डब्ल्यूएचओ को बार-बार होने की अनुमति देना मंजूर नहीं है। ‘ उन्होंने कहा कि यदि संगठन अपना काम करने में असफल रहता है तो अमेरिका उसका हिस्सा नहीं रहेगा।

आपको बता दें कि कोरोनावायरस से अमेरिका में 70,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई है जबकि 12 लाख से जबकि लोग बच पाए गए हैं।

लाइव टीवी





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *