• वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रम्प के इमिग्रेशन एडवाइजर एक एग्जीक्यूटिव सेवा लाने की कोशिश की जा रही है
  • नंबर की वीजा परीक्षा में एच 1-बी (स्किल्ड वर्कर्स) और एच -2 बी (माइग्रेंट वर्कर्स) को शामिल किया जा रहा है।

दैनिक भास्कर

09 मई, 2020, 03:52 PM IST

वॉशिंगटन। अमेरिकी सरकार एच1-बी जैसे वर्क वीजा पर अस्थाई प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में बड़ी तादाद में लोगों की सुरक्षा जाने का खतरा है। इसके नेतृत्व वाली सरकार यह निर्णय ले सकती है। अमेरिका से ज्यादा एच 1-बी वीजा हासिल करने वाले भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स और छात्र ही हैं।

अमेरिकी सरकार ने हाल ही में कोरोनावायरस के कारण एच -1 बी वीजाधारकों और ग्रीनकार्डेंट्स को 60 दिन की छूट दी है। हालांकि, यह छूट सिर्फ उन लोगों को दी गई है, जिनके दस्तावेजों को जमा करने के कारण नोटिस दिया गया है।

रिपोर्ट में क्या कहा गया है?
शुक्रवार को वाल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, नाल्ड ट्र राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के इमिग्रेशन एडवाइजर एक एग्जीक्यूटिव सेवा लाने की योजना बना रहे हैं। उम्मीद है कि यह इसी महीने आ जाएगा। इसमें वर्क वीजा पर अस्थायी प्रतिबंध लगाने की बात हो सकती है। माना जा रहा है कि नंबर की वीजा सेवाओं में एच 1-बी (स्किल्ड वर्कर्स) और एच -2 बी (माइग्रेंट वर्कर्स) को शामिल किया जा सकता है। ”

अमेरिका को बेरोजगारों की चिंता
कोरोना महामारी के चलते बीते 2 महीने में अमेरिका में 3.3 करोड़ लोगों को नौकरी गंवानी पड़ी है। इससे देश की अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ा है। आंतरिक मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक ने भी अमेरिका की ग्रोथ को कम निगेटिव आंकी है। व्हाइट हाउस के अफसरों के मुताबिक, वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश की ग्रोथ 15-20% निगेटिव में रहने की आशंका है।

सांसदों ने भी ट्रम्प से वीजा सस्पेंड करने की बात कही
सीनेट के 4 सांसदों चक ग्रेसली, टॉम कॉटन, टेड आइलैंड और जोश हॉल ने शुक्रवार को ट्रम्प को पत्र लिखा। इसमें उन्होंने लेबर डिपार्टमेंट की रिपोर्ट दी। बताया गया कि कोरोना ने अप्रैल में 2 करोड़ रुपये खत्म कर दीं। इसके कारण बेरोजगारी दर 14.7% हो गई। लिहाजा विदेशों से आने वाले वर्करों का वीजा कम से कम एक साल के लिए सस्पेंड कर देना चाहिए।

सांसदों ने इन वीज़ा को सस्पेंड करने की मांग की

  • एच -1 बी वीजा: विशेष कार्य के कर्मचारियों को जाने वाला वीजा दिया गया
  • एच -2 बी वीजा: नॉन-एग्रीकल्चरल कामों के लिए सीजनल वर्करों को दिया जाने वाला वीजा
  • ओजी वीजा: ग्रेज्यूशन के बाद स्टूडेंट्स को इंटर्नशिप के लिए दिए जाने वाला वीजा
  • ईबी -5 वीजा: विदेश के अमीर लोगों को इंवेस्टमेंट के बदले दिए जाने वाला वीजा

पिछले साल ओएमपी वीजा वालों में 40% भारतीय थे
ओटीपी वीजा के सस्पेंड होने से भारतीय छात्रों में असर पड़ेगा। हर साल भारत से कई स्टूडेंट फॉरेन स्टूडेंट वीजा पर ग्रेजुएशन के लिए अमेरिका जाते हैं। ग्रेज्यूशन होने के बाद अमेरिका उनके वीजा में विस्तार करता है। इसे ओ बफर वीजा कहते हैं। इसके तहत विदेशी छात्र एक से तीन साल तक अमेरिका इंटर्नशिप कर सकते हैं। 2019 में अमेरिका में विदेश के दो लाख 23 हजार स्टूडेंट ऐसे थे, जिन्हें ग्रेजुएशन के बाद ओटीपी वीजा मिला था, इसमें लगभग 40% भारतीय थे।

एच 1-बी वीजा क्या है?
एच 1-बी नॉन-इमिग्रेंट वीजा है, जिसके तहत अमेरिकी कंपनियां विदेशी कामगारों (विशेष रूप से भारत और चीन के आईटी प्रोफेशनल्स) को अपने यहां काम करने के लिए बुलाती हैं। इस बार लगभग 50 हजार अप्रवासी कामगार एच1-बी वीजा पर अमेरिका में काम कर रहे हैं। नियम के अनुसार, यदि कोई एच -1 बी वीजाधारकों की कंपनी ने उसे के कांट्रैक्ट खत्म कर लिया है तो वीजा स्टेटस बनाए रखने के लिए उसे 60 दिनों के अंदर नई कंपनी में जॉब तलाशना होगा।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *