• वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो पहले भी राष्ट्रपति ट्रम्प पर तख्तापलट की कोशिश करने का आरोप लगा चुके हैं।
  • अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा- अमेरिकी नागरिकों को लाने के लिए कुछ भी करेंगे

दैनिक भास्कर

07 मई, 2020, 11:14 PM IST

कराकस। वेनेजुएला और अमेरिका के बीच तकरार एक बार फिर से बढ़ रही है। वेनेजुएला में गिरफ्तार किए गए दो अमेरिकी नागरिकों में से एक ने वहां के सरकारी टीवी में स्वीकार किया है कि वह राष्ट्रपति मादुरो का अपहरण करने आया था। उन्होंने बताया कि अमेरिका की वेनेजुएला में तख्तापलट की योजना थी। उन्हें वेनेजुएला के मेनपोर्ट को कब्जे में लेना था, लेकिन पहले ही वह पकड़ा गया।

ल्यूक डेनमैन नाम के इस शख्स को एक और साथी आइरन बेरी के साथ गिरफ्तार किया गया है। पिछले सप्ताह वे मछली पकड़ने वाली नौकाओं के बेड़े से देश में घुस रहे थे। इन दोनों अमेरिकी नागरिकों के अलावा 11 और लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि आठ लोग मारे गए हैं। वेनेज़ुएला का कहना है कि वे सब उग्रवादी हैं और उनके विद्रोह को नाकाम चीन कर दिया गया है। वेनेज़ुएला की सेना ने कहा है कि दोनों अमेरिकी सेना के जवान हैं।

कबुलनामे के वीडियो को बहुत ज्यादा एडिट किया गया है

अमेरिकी नागरिक के कबूलनामे के जिस वीडियो को दिखाया गया है, वह बहुत ज्यादा एडिट किया गया है। वीडियो में टेक्सास के ऑस्टिन निवासी ल्यूक डेनमैन दिख रहे हैं। उन्होंने बताया कि काराकास आने से पहले वह जनवरी में कोलंबिया गया था। इसके बाद उन्होंने रोहचिया के पास वेनेजुएला के फायरकों को प्रशिक्षण दी। उन लोगों को एक टर्मिनल पर कब्जा करके मादुरो का अपहरण करके अमेरिका ले जाना था।

डेनमैन ने यह भी बताया कि वह वेनेजुएला के लोगों को उसके अधिकार दिलाने में मदद कर रही थी। वह अमेरिका की प्राथमिक सिक्युरिटी कंपनी सिल्वरकॉर्प के लिए काम कर रहे थे। इस कंपनी को मिलेट्री वटोरन जॉर्डन गोड्रे चलाते हैं।

मादुरो ने कहा- विपक्ष के नेता जुआन गुआडो से हुआ था कांट्रैक्ट
वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने कहा है कि विपक्ष के नेता जुआन गुआडो ने सिल्वरकॉर्प के साथ कंट्राक्ट साइन किया था। मालूम हो की जुआन को अमेरीका और यूरोपियन यूनियन का समर्थन मिला है। उन्होंने खुद को राष्ट्रपति घोषित कर रखा है। हालाँकि, गुआडो ने इन आरोपों को नकार दिया है।

पोम्पियो बोले- अमेरिकी नागरिकों की सुरक्षा के लिए भी कुछ करेंगे।
शुरुआत में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने इस घटना में अमेरिका की किसी भी तरह की भूमिका से इनकार किया था। अब अमेरिका ने स्वीकार किया है कि वे दोनों अमेरिकी नागरिक हैं। हालांकि, उन्होंने किसी मरमंती से इनकार किया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि अमेरिकी सरकार दोनों को सुरक्षित लाने के लिए सभी तरीके अपनाएगी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *