• अमेरिका का कहना है कि कोरोनावायरस चीन के वुहान शहर से दुनिया में फैल रहा है
  • ‘चीन ने कोरोना से जुड़ी जानकारी छिपाई, सही समय पर जरूरी कदम नहीं उठाए’
  • रिपब्लिकन सांसदों ने चीन पर बैन लगाने का प्रस्ताव सीनेट में रखा: रिपोर्ट

दैनिक भास्कर

13 मई, 2020, 11:00 पूर्वाह्न IST

वॉशिंगटन। कोरोनावायरस के मुद्दे पर अमेरिका लगातार चीन पर हमला कर रहा है। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) रॉबर्ट ओब्रायन ने कहा है कि पिछले 20 साल में चीन से 5 संकट आ चुके हैं। इस सिलसिले को रोकना जाना चाहिए। ओब्रायन ने कहा- सार्स, एवियन फ्लू, स्वाइन फ्लू और कोरोनावायरस चीन से आए। हालांकि, उन्होंने टॉमिस का नाम नहीं बताया।

पूरी दुनिया चीन से जवाब मांगेगी: ओब्रायन

अमेरिका के एनएसए ने कहा, “हमें पता है कि कोरोनावायरस चीन के वुहान शहर से दुनिया में फैल, इस बात के कुछ सबूत भी हैं। हालांकि केवल वायरस उद्योग से बाहर हो या फिर मीट मार्केट से, लेकिन बार-बार चीन का नाम आना। अच्छी बात नहीं। अब पूरी दुनिया चीन की सरकार से कहेगी कि बार-बार ऐसे हालात नहीं झेल सकते। “

‘हमने मदद का प्रस्ताव दिया, चीन ने मना कर दिया’

ओब्रायन ने कहा कि चीन चाहता है तो कोरोनावायरस को रोक सकता था। हमने हेल्थ प्रोफेशनल भेजने का प्रस्ताव दिया, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। पत्रकारों ने ओब्रायन से पूछा कि अब अमेरिका भी कोरोनावायरस की उत्पत्ति के सबूत तलाश रहा है? उन्होंने जवाब दिया- इस बारे में कोई निश्चित समय नहीं बता सकता, लेकिन हम लगातार समीक्षा कर रहे हैं। यह एक गंभीर मुद्दा है।

कोरोना से पढ़ाई में 2.50 लाख लोगों की मौत
ओब्रायन का कहना है कोरोनावायरस सिर्फ अमेरिका के लिए नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए खतरनाक हो गया है। दुनिया में 2.50 लाख लोगों की मौत हो चुकी है, 40 लाख से ज्यादा आबादी हैं। अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित है। वहां 80 हजार लोगों की मौत हो चुकी है और 14 लाख लोग हैं।

‘चीन को भविष्य में ऐसे मामलों को रोकना होगा’

ओब्रायन ने कहा कि कोरोनावायरस की वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था थम गई। पिछले 20 साल में पांचवीं बार ऐसा हुआ है। चीन को ऐसा होने से रोकना चाहिए था। चीन को बाकी दुनिया से मदद की जरूरत है। लोगों के स्वास्थ्य संकट से निपटने में हम चीन की मदद के लिए तैयार हैं ताकि फिर से ऐसा नहीं हो।

अमेरिकी सीनेट में चीन पर बैन लगाने का प्रस्ताव

अमेरिका और चीन के बीच टकराव अभी और बढ़ सकता है। बीबीसी के मुताबिक, सीनेट में चीन पर बैन लगाने का प्रस्ताव लाया गया है। रिपब्लिकन सांसदों ने मंगलवार को ऐसा कानून लाने का प्रस्ताव रखा, जिससे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को चीन पर बैन लगाने की ताकत मिल गई। अमेरिका के रिपब्लिकन सांसदों का कहना है कि चीन महामारी को लेकर जानकारी छिपी हुई है, उस पर बैन लगना चाहिए। चीन ने शुरू से ही धोखा दिया, जिसकी वजह से लाखों लोगों की जान चली गई।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *