नई दिलवाली: आतंकवादियों ने काबुल के एक जच्चा-बच्चा अस्पताल पर मंगलवार को हमला किया जिसमें दो नवजात शिशु और उनकी माताओं सहित 14 लोगों की जान चली गई। एक अन्य हमले में आत्मघाती हमलावर ने नानगहर प्रांत में एक मृतक के अंतिम संस्कार को निशाना बनाया जिसमें कम से कम 24 लोगों की जान चली गयी और 68 अन्य घायल हो गए। यह इस्लामिक स्टेट संगठन की सक्रियता वाला क्षेत्र है।

भारत ने अफगानिस्तान में एक सैन्य अस्पताल, एक मृतक के अंतिम संस्कार और सैन्य जांच चौकी को निशाना बनाकर किए गए विभिन्न आतंकवादी हमलों की मंगलवार को कड़ी भर्त्सना करते हुए इसे महिलाओं और बच्चों सहित निर्दोषों के विरूद्ध ‘‘ बर्बर ’’ के कथानक करार दिया।

विदेश मंत्रालय ने कहा, ” भारत दश्त ए बार्ची अस्पताल के जच्चा-बच्चा वार्ड, नानघर प्रांत में एक मृत व्यक्ति के अंतिम संस्कार और लघमन प्रांत में एक सेना जांच चौकी पर महिलाओं और बच्चों सहित निर्दोष नागरिकों पर किए गए झूठे आतंकवादी हमले की कड़ी। भर्त्सना करता है। ”

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि माताओं, नवजात शिशुओं और शोक मनाने वाले परिवारों पर यह द द निदंनीय ’’ हमला भयावह है और मानवता के विरूद्ध अपराध है।

बयान में कहा गया है, कों कों हम मृतकों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं और जो लोग घायल हुए हैं, उनके शीर्घ स्वस्थ होने की कामना करते हैं। ”

इसमें कहा गया है कि आतंकवाद के इस प्रकार के निरंतर होने वाले उपहारों को किसी भी तरह से सही नहीं ठहराया जा सकता है। इसमें यह भी कहा गया है कि इस प्रकार के घृणित कृत्यों को अंजाम देने वालों और इसके प्रायोजकों को कानून के शिकंजे में लाकर उनकी जवाबदेही तय की जानी चाहिए।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत अफगानिस्तान में शांति और स्थिरता लाने के उसके प्रयासों में वहां के लोगों, सुरक्षा बल और सरकार के साथ एकजुटता से पैदा हुई है। बयान में कहा गया है, जान जान रमजान का पवित्र महीना उपवास, प्रार्थना और विचार करने का समय होना चाहिए। ‘

इसमें कहा गया है, आह ‘हम आह्वान करते हैं कि आतंकवादी हिंसा पर तुरंत रोक लगनी चाहिए और अफगानिस्तान में कोरोनावायरस के प्रसार के कारण उत्पन्न होने वाली स्थिति से निपटने के लिए सहयोग किया जाना चाहिए। ”





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *