ख़बर सुनता है

महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं सहित तीन लोगों की हत्या के मामले में जिला के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए गए हैं। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बताया कि उन्हें अनिवार्य अवकाश पर भेज दिया गया है। अतिरिक्त एसपी पालघर में पुलिस महकमे की जिम्मेदारी संभालेंगे।

इससे पहले पालघर में भीड़ द्वारा साधुओं की पीट-पीके हत्या के मामले में पुलिस ने सख्त कार्रवाई करते हुए एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर सहित दो हेड कांस्टेबल्स को निलंबित कर दिया था। मामले में दो पुलिसवालों को पहले ही निलंबित किया जा चुका है। इसके अलावा कासा पुलिस थाने के 35 पुलिसकर्मियों का तबादला भी किया गया था।

110 लोगों के खिलाफ एफआईआरआर दर्ज की गई
पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए ग्रामीणों और 110 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। जिसमें से 101 को पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था और नौ नाबालिगों को एक किशोर आश्रय गृह में भेज दिया गया था।

पालघर में उनकी कार पर हमला किया गया और इस हमले में चिकने महाराज कल्पवृक्षगिरि (70), सुशील गिरिराज (35) और कार के ड्राइवर नीलाश तेलगड़े (30) को हिंसक भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला। दोनों संत अपने वरिष्ठ संत की अंतिम क्त्रिस्या कर्म में शामिल होने के लिए सूरत जा रहे थे।

महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं सहित तीन लोगों की हत्या के मामले में जिला के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए गए हैं। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बताया कि उन्हें अनिवार्य अवकाश पर भेज दिया गया है। अतिरिक्त एसपी पालघर में पुलिस महकमे की जिम्मेदारी संभालेंगे।

इससे पहले पालघर में भीड़ द्वारा साधुओं की पीट-पीके हत्या के मामले में पुलिस ने सख्त कार्रवाई करते हुए एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर सहित दो हेड कांस्टेबल्स को निलंबित कर दिया था। मामले में दो पुलिसवालों को पहले ही निलंबित किया जा चुका है। इसके अलावा कासा पुलिस थाने के 35 पुलिसकर्मियों का तबादला भी किया गया था।

110 लोगों के खिलाफ एफआईआरआर दर्ज की गई

पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए ग्रामीणों और 110 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। जिसमें से 101 को पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था और नौ नाबालिगों को एक किशोर आश्रय गृह में भेज दिया गया था।

पालघर में उनकी कार पर हमला किया गया और इस हमले में चिकने महाराज कल्पवृक्षगिरि (70), सुशील गिरिराज (35) और कार के ड्राइवर नीलाश तेलगड़े (30) को हिंसक भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला। दोनों संत अपने वरिष्ठ संत की अंतिम क्त्रिस्या कर्म में शामिल होने के लिए सूरत जा रहे थे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *