विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

काठमांडू से परशुराम काफ्लेक्स31 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

फाइल फोटो

नेपाल और चीन की दोस्ती में दरार पड़ रही है। क्योंकि, नेपाल से आने वाले सामान पर कोरोना की आड़ में चीन ने अघोषित ब्लाॅकेज लगा दिया है। पिछले 10 महीने से तिब्बत सीमा पर नेपाल के 1200 कंटेनर फंसे हुए हैं। माल फंसने के कारण नेपाली व्यापारी राम पौडेल ने आत्महत्या कर ली।

परिजनों के अनुसार राम ने दो करोड़ का लोन लिया था, माल फंसने का कारण वह किस्त नहीं था पा रहा था। नेपाल के वित्त मंत्रालय में तैनात एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने बताया कि चीनी कस्टम अधिकारी सामान्य तौर पर नेपाली मजदूरों के कोरोना के आरटी-पीसीआर टेस्ट को भी मान नहीं रहे हैं।

लिहाजा हम भूमि मार्ग से माल लाने के लिए व्यापारियों को हतोत्साहित कर रहे हैं। हम उन्हें कोलकाता पोर्ट के रास्ते सामान लाने को कह रहे हैं। क्योंकि, हमें चीन से सहयोग नहीं मिल रहा है। हमें बताया गया है कि कोरोना खत्म होने के बाद सामान आगे जाएगा।

ऊनी कपड़ों के भी कंटेनर

कस्टम अधिकारियों के मुताबिक तिबत सीमा पर फंसेलेटरों में ऊनी कपड़ों के भी कंटेनर हैं। ये माल तिब्बत की राजधानी ल्हासा, शिगत्से, न्यालम, केरूंग आदि में फंसा हुआ है। नेपाली व्यापारियों के अनुसार तिब्बत के शहरों में फंसे हुए माल की कीमत 1300 करोड़ रु। है बहुत है। वित्त मंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि यह चीन का अघोषित ब्लाॅकेज है, क्योंकि प्लंबर में भी सप्लाई नहीं रोहित जा सकती है। वहीं, माल भेजने के लिए चीनी सीमा शुल्क एजेंटों को रिश्वत देनी पड़ती है, नहीं देने पर चीनी एजेंट माल नहीं जमा करता है।

कारोबार की दृष्टि से चीन के साथ नेपाल के दो बॉर्डर पँवित मुख्य हैं, रसुवागड़ी-केरुंग और चट्टोपानी-खासा। टाटोपानी पुराना प्वाइंट है। 2015 में आए संकट के बाद से ये बंद था, लेकिन इसे पिछले साल चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेपाल दौरे के बाद खोला गया। केरूंग-रसुवागड़ी को चीन ने अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर प्वाइंट के तौर पर विकसित किया है। चीन केरुंग के रास्ते नेपाल के सिर्फ 5 कटर्स और चट्टोपानी-खासा के जरिए 2 कंटेनर ही जाने दे रहा है।

चीन ने 13 सीमा बिंदु खोलने पर सहमति व्यक्त की थी

पहले 30 से 40 कंटेनर माल प्रतिदिन जाता था। चीन ने मौखिक रूप से नेपाल-चीन के बीच 13 सीमा बिंदु खोलने पर सहमति व्यक्त की थी। लेकिन चीन ने दो सीमाओं पर भी आगे / एक्स आसान नहीं किया। रसुवागड़ी में तैनात नेपाली कस्टम अधिकारी पुण्य बिक्रम खड़के बताते हैं कि बड़े कारोबारियों ने चीन के शहरों से माल भारत के कोलकाता पोर्ट पर भेज दिया है। कोलकाता पोर्ट के जरिए सामान 35 दिन में चीन से नेपाल वापस आ सकता है। हमें उम्मीद थी कि इस साल करोड़ों रुपए का राजस्व सृजित होगा, लेकिन अब तक हम 100 करोड़ रुपए के स्तर को भी छू नहीं पाए हैं।

चट्टोपानी सीमा पर कस्टम अधिकारी लाल बहादुर खत्री कहते हैं कि इस रास्ते से गए लगभग 800 टन डीलर तिब्बती हिस्से में फंसे हैं। कस्टम अधिकारियों ने चीन से शिल्पकारों को प्राप्त करने के लिए अलग से एक यार्ड बनाया है। यहां नेपाली वर्कर्स को तैनात किया गया है। उन्हें स्वास्थ्य प्रोटोकॉल से लैस किया गया है। लेकिन चीनी अधिकारी कोविद का डर बताते हुए कंटेनर भेजने में आर्नानी कर रहे हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: