न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई
Updated Sat, 12 Dec 2020 07:22 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनकर

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने एक बार फिर एनसीपी प्रमुख शरद पवार का पक्ष लिया है। दरअसल, बीते कुछ दिनों से पवार को कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) का प्रमुख बनाए जाने की अटकलें तेजी से सियासी गलियारों में फैल रही हैं। इसके बारे में ही राउत ने शनिवार को कहा कि छोटे राजनीतिक कद के नेताओं ने शरद पवार को शीर्ष पर जाने से रोका है।

बता दें कि आज एनसीपी प्रमुख शरद पवार का जन्म दिन है। वह 80 साल के हो गए हैं। कांग्रेस के पूर्व नेता पवार ने पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बगावत कर 1999 में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) का गठन किया। राउत ने नासिक में पत्रकारों से कहा कि पवार की योग्यता और गुण उनकी राजनीतिक यात्रा में एक अवरोधक बन गए हैं।

उन्होंने कहा कि छोटे कद के लोगों को उनसे डर था और उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि वह शीर्ष पर न पहुंचें। उन्होंने दावा किया कि अगर कांग्रेस में चुनाव हुए होते हैं तो 80 फीसदी वोट पवार के पास होते हैं।

शिवसेना नेता राउत ने कहा कि पवार को बहुत पहले ही प्रधानमंत्री बनने का अवसर मिलना चाहिए था। आज वह 80 वर्ष के हैं। लेकिन वह ऐसे नेता हैं जिनके लिए उम्र कोई बाधा नहीं है।

कांग्रेस के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर राउत ने कहा कि राजनीतिक दलों का सफाया नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि एक समय में भाजपा के केवल दो सांसद थे।

उन अटकलों पर कि पवार संप्रग के अध्यक्ष बन सकते हैं, राउत ने कहा कि अगर महाराष्ट्र का कोई नेता कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन का प्रमुख बन जाता है, तो हमें खुशी होगी।

दिल्ली की सीमाओं पर नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन पर राउत ने कहा कि यदि केंद्र सरकार दो कदम पीछे हट जाएगी तो इसमें उसकी वापसी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि संसद में इन कानूनों पर फिर से: बहस करें। समझे कि किसान इन कानूनों को रद्द करने के लिए क्यों कह रहे हैं।

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने एक बार फिर एनसीपी प्रमुख शरद पवार का पक्ष लिया है। दरअसल, बीते कुछ दिनों से पवार को कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) का प्रमुख बनाए जाने की अटकलें तेजी से सियासी गलियारों में फैल रही हैं। इसके बारे में ही राउत ने शनिवार को कहा कि छोटे राजनीतिक कद के नेताओं ने शरद पवार को शीर्ष पर जाने से रोका है।

बता दें कि आज एनसीपी प्रमुख शरद पवार का जन्म दिन है। वह 80 साल के हो गए हैं। कांग्रेस के पूर्व नेता पवार ने पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बगावत कर 1999 में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) का गठन किया। राउत ने नासिक में पत्रकारों से कहा कि पवार की योग्यता और गुण उनकी राजनीतिक यात्रा में एक अवरोधक बन गए हैं।

उन्होंने कहा कि छोटे कद के लोगों को उनसे डर था और उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि वह शीर्ष पर न पहुंचें। उन्होंने दावा किया कि अगर कांग्रेस में चुनाव हुए होते हैं तो 80 फीसदी वोट पवार के पास होते हैं।

शिवसेना नेता राउत ने कहा कि पवार को बहुत पहले ही प्रधानमंत्री बनने का अवसर मिलना चाहिए था। आज वह 80 वर्ष के हैं। लेकिन वह ऐसे नेता हैं जिनके लिए उम्र कोई बाधा नहीं है।


आगे पढ़ें

राजनीतिक दलों का सफाया नहीं किया जा सका





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: