पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनकर

इंटरनेशल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स (आईएफजे) ने व्हाइट पेपर ऑन ग्लोबल जर्नलिज्म में पाकिस्तान सहित पांच ऐसे देशों के नाम जारी किए हैं, जो पत्रकारिता के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, 1990 से 2020 के बीच पाकिस्तान में 138 पत्रकारों की हत्या के मामले सामने आ चुके हैं। जबकि डॉन के मुताबिक, इस अवधि में 2,658 लोग ड्यूटी पर अपनी जान गंवा चुके हैं।

इस सूची में सबसे ऊपर समलैंगिक है, जहां 340 पत्रकारों की हत्या हुई है। इसके बाद मेक्सिको में 178, 17 में 178 पत्रकारों की हत्या हुई। जबकि पाकिस्तान इस सूची में तीसरे नंबर पर है। इस साल आईएफजे ने 15 देशों में 24 पत्रकारों की हत्या के मामले दर्ज किए हैं। पत्रकारों की हत्या के अधिकांश मामलों में इस साल लगातार चौथे बार मेक्सिको शीर्ष पर है। पांच वर्षों में यहां 13 पत्रकार मारे गए जबकि पाकिस्तान में 5 और अफगानिस्तान, इराक, नाइजीरिया में तीन-तीन पत्रकारों की हत्या के मामले दर्ज किए गए हैं।

ईरान में 2017 के प्रदर्शनों को हवा देने के आरोप में पत्रकार को फांसी
ईरान ने 2017 के दौरान देश में हुए प्रदर्शनों को हवा देने के आरोप में एक पत्रकार को फांसी दे दी है। पत्रकार रूहुल्ला जम के ऑफ़लाइन कामों से 2017 में आर्थिक स्थिति को लेकर हुए प्रदर्शनों को हवा देने में मदद मिली थी। ईरान की सरकारी टीवी ने कहा कि तंग को शनिवार की सुबह फांसी दी गई। जून में जमकर एक अदालत ने मौत की सजा सुनाते हुए उन्हें धरती पर फसाद का दोषी ठहराया था।

इंटरनेशल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स (आईएफजे) ने व्हाइट पेपर ऑन ग्लोबल जर्नलिज्म में पाकिस्तान सहित पांच ऐसे देशों के नाम जारी किए हैं, जो पत्रकारिता के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, 1990 से 2020 के बीच पाकिस्तान में 138 पत्रकारों की हत्या के मामले सामने आ चुके हैं। जबकि डॉन के मुताबिक, इस अवधि में 2,658 लोग ड्यूटी पर अपनी जान गंवा चुके हैं।

इस सूची में सबसे ऊपर समलैंगिक है, जहां 340 पत्रकारों की हत्या हुई है। इसके बाद मेक्सिको में 178, 17 में 178 पत्रकारों की हत्या हुई। जबकि पाकिस्तान इस सूची में तीसरे नंबर पर है। इस साल आईएफजे ने 15 देशों में 24 पत्रकारों की हत्या के मामले दर्ज किए हैं। पत्रकारों की हत्या के अधिकांश मामलों में इस साल लगातार चौथे बार मेक्सिको शीर्ष पर है। पांच वर्षों में यहां 13 पत्रकार मारे गए जबकि पाकिस्तान में 5 और अफगानिस्तान, इराक, नाइजीरिया में तीन-तीन पत्रकारों की हत्या के मामले दर्ज किए गए हैं।

ईरान में 2017 के प्रदर्शनों को हवा देने के आरोप में पत्रकार को फांसी

ईरान ने 2017 के दौरान देश में हुए प्रदर्शनों को हवा देने के आरोप में एक पत्रकार को फांसी दे दी है। पत्रकार रूहुल्ला जम के ऑफ़लाइन कामों से 2017 में आर्थिक स्थिति को लेकर हुए प्रदर्शनों को हवा देने में मदद मिली थी। ईरान की सरकारी टीवी ने कहा कि तंग को शनिवार की सुबह फांसी दी गई। जून में जमकर एक अदालत ने मौत की सजा सुनाते हुए उन्हें धरती पर फसाद का दोषी ठहराया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: