विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन28 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट
  • जूम एप के सीईओ एरिक यूआन बिजनेस पर्सन ऑफ द ईयर बने

दुनिया की प्रतिष्ठित मैगजीन ने दिसंबर 2020 के कवर पेज पर किसी बड़ी हस्ती की तस्वीर के बजाए 2020 को रेड क्रॉस या एक्स ’से दर्शाया है। उसके नीचे लिखा था- वर्स्ट ईयर ऑफ द एवर यानी अब तक का सबसे खराब साल। वहीं, अमेरिकी राजनीति में बदलाव के लिए अमेरिका के प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन और वाइस प्रेसिडेंट इलेक्ट कमला हैरिस को मैगजीन ने पर्सन ऑफ द ईयर के तौर पर मैगजीन ने अपने कवर पेज पर जगह दी है।

दोनों के फोटो के साथ लिखा गया- चेंजिंग यूएसएस स्टोरी यानी अमेरिका की कहानी को बदलना। इस साल पर्सन ऑफ द ईयर की रेस में अमेरिकी फिजिशियन डॉ। एंथनी फौसी, रेजिडियल जस्टिस मूवमेंट और डोनाल्ड ट्रम्प भी थे। समय 1927 से पर्सन ऑफ द ईयर चुनती आ रही है।

बता दें कि टाइम ने गुरुवार देर रात बिजनेस पर्सन ऑफ द ईयर के तौर पर जूम एप्स के सीईओ एरिक यूआन को जबकि, इंटरटेनर ऑफ द ईयर का खिताब कोरियन बैंड बीटीएस को दिया।

इस मैजेनियन के इतिहास का यह पांचवां मौका है

मैगजीन ने कवर पर रेड क्रॉस लगाने का प्रयोग पहली बार नहीं किया। 93 साल पुरानी इस मैगजीन के इतिहास का यह पांचवां मौका है, जब कवर पेज पर रेड क्रॉस का इस्तेमाल किया गया है।

  • पहली बार 1975 में जर्मनी के तानाशाह एडॉल्फ हिटलर की मौत को चिह्नित करने के लिए मैगजीन ने रेड क्रॉस का किया था।
  • दूसरी बार समलैंगिक युद्ध के शुरुआत में मैगजीन ने रेड क्रॉस का प्रयोग किया था।
  • तीसरी बार 2006 में अमेरिकी सेना द्वारा इराक में अलकायदा के आतंकवादी अबू मौसम अल जरकावी की हत्या के बाद रेड क्रॉस का इस्तेमाल किया गया।
  • चौथे बार 2011 में आतंकवादी ओसामा बिल लादेन की हत्या के बाद मैगजीन के कवर पेज पर क्रॉस का इस्तेमाल किया गया था।

मैगजीन ने लिखा- लोगों को बांटने से ज्यादा ताकत हमदर्दी दिखाने में
समय ने जो बाइडेन और कमला हैरिस को अमेरिकी इतिहास में बदलाव लाने के लिए पॉलिटिक्स पुरस्कार में यह खिताब दिया है। टाइम के एडिटर इन शेफ एडवर्ड फेल्सेंथल ने सोशल मीडिया पर लिखा- बाइडेन और कमला हैरिस ने अमेरिकी इतिहास को बदलने की कोशिश की है।

उन्होंने यह दिखाया कि लोगों को बांटने से ज्यादा ताकत उन्हें हमदर्दी दिखाने में होती है। दोनों ने दुख में डूबी दुनिया के जख्मों पर मरहम लगाने का विजन पेश किया है। मालूम हो, 2019 में जलवायु परिवर्तन के लिए काम करने वाली स्वीडिश एक्टिवास्ट ग्रेटा थनबर्ग को यह सम्मान मिला था।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: