बिज़नेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अद्यतित शनि, 12 दिसंबर 2020 02:52 पूर्वाह्न IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनकर

अगर डाकघर में आपका बचत खाता है तो अब इसमें 500 रुपये का न्यूनतम (मिनिमम) बैलेंस रखना जरूरी हो गया है। ऐसा नहीं करने पर आपके खाते से मेंटेनेंस शुल्क के रूप में 100 रुपये की कटौती होगी।

नया नियम 11 दिसंबर, 2020 से प्रभावी हो गया है। भारत पोस्ट ने ट्वीट कर सभी खाताधारकों को इसकी सूचना दी है। इस नियम के बदलने का असर उन सभी लोगों पर पड़ेगा, जिनके डाकघर में बचत खाता है।

नए नियम के मुताबिक, वित्त वर्ष के अंत तक खाते में 500 रुपये का न्यूनतम बैलेंस नहीं रहने पर वित्त वर्ष के अंतिम दिन से 100 रुपये का अनंत शुल्क और जीएसटी कट लिया जाएगा। इसके बाद अगर खाते में बैलेंस शून्य हो जाता है तो उसे बंद कर दिया जाएगा। ब्यूरो

500 रुपये में खुलवा सकते हैं खाता
डाकघर में 500 रुपये में बचत खाता खुल जाता है। ध्यान रखने वाली बात है कि एक डाकघर में एक ही बचत खाता खुलवा सकते हैं। इस बार डाकघर में बचत खाने पर सालाना ब्याज दर 4 प्रति है। इसे एकल (सिंधल) या संयुक्त (जवाई) में, 10 साल से अधिक उम्र के नाबालिग बच्चे के नाम पर और दिमागी रूप से कमजोर व्यक्ति के लिए खुलवा सकते हैं।

… एक बार निकासी या जमा करना जरूरी है
डाकघर में बचत खाते पर चेक / एटीएम सुविधा, नोमिनेशन सुविधा, खाने को एक डाकघर से दूसरे में ट्रांसफर की सुविधा, इंट्रा ऑपरेबल नेटबैंकिंग / मोबाइल बैंकिंग सुविधा, बचत खाने के बीच ऑनलाइन फंड ट्रांसफर सुविधा उपलब्ध है। खाने को सक्रिय रखने के लिए तीन साल में कम-से-कम एक बार निकासी या जमा करना जरूरी है।

निवेश पूरी तरह से सुरक्षित है
डाकघर की बचत योजनाओं में निवेश की गई पूरी राशि 100 प्रति सुरक्षित रहती है। इसकी जमाओं पर सॉवरेन सुनिश्चित होता है। इसका मतलब है कि अगर डाकघर खाताधारकों का पैसा लौटाने में विफल रहता है, तो सरकारी अधिकारियों के पैसों की यकीन लेती है।

डाकघर बचत के बारे में खास बातें …

  • न्यूनतम 50 रुपये निकाले जा सकते हैं, निवेश की कोई सीमा नहीं।
  • न्यूनतम बैलेंस 500 रुपये से कम होने पर निवेश नहीं कर सकता।
  • हर महीने की 10 तारीख और महीने के अंत में खाते में न्यूनतम बैलेंस के आधार पर ब्याज की गणना होगी।
  • इस दौरान न्यूनतम बैलेंस 500 रुपये से कम होने पर ब्याज नहीं मिलेगा।
  • शिशु कानून की धारा 80 टीटीए के तहत 10,000 रुपये तक के ब्याज पर नहीं लगेगा।
अगर डाकघर में आपका बचत खाता है तो अब इसमें 500 रुपये का न्यूनतम (मिनिमम) बैलेंस रखना जरूरी हो गया है। ऐसा नहीं करने पर आपके खाते से मेंटेनेंस शुल्क के रूप में 100 रुपये की कटौती होगी।

नया नियम 11 दिसंबर, 2020 से प्रभावी हो गया है। भारत पोस्ट ने ट्वीट कर सभी खाताधारकों को इसकी सूचना दी है। इस नियम के बदलने का असर उन सभी लोगों पर पड़ेगा, जिनके डाकघर में बचत खाता है।

नए नियम के मुताबिक, वित्त वर्ष के अंत तक खाते में 500 रुपये का न्यूनतम बैलेंस नहीं रहने पर वित्त वर्ष के अंतिम दिन से 100 रुपये का अनंत शुल्क और जीएसटी कट लिया जाएगा। इसके बाद अगर खाते में बैलेंस शून्य हो जाता है तो उसे बंद कर दिया जाएगा। ब्यूरो

500 रुपये में खुलवा सकते हैं खाता
डाकघर में 500 रुपये में बचत खाता खुल जाता है। ध्यान रखने वाली बात है कि एक डाकघर में एक ही बचत खाता खुलवा सकते हैं। इस बार डाकघर में बचत खाने पर सालाना ब्याज दर 4 प्रति है। इसे एकल (सिंधल) या संयुक्त (जवाई) में, 10 साल से अधिक उम्र के नाबालिग बच्चे के नाम पर और दिमागी रूप से कमजोर व्यक्ति के लिए खुलवा सकते हैं।

… एक बार निकासी या जमा करना जरूरी है
डाकघर में बचत खाते पर चेक / एटीएम सुविधा, नोमिनेशन सुविधा, खाने को एक डाकघर से दूसरे में ट्रांसफर की सुविधा, इंट्रा ऑपरेबल नेटबैंकिंग / मोबाइल बैंकिंग सुविधा, बचत खाने के बीच ऑनलाइन फंड ट्रांसफर सुविधा उपलब्ध है। खाने को सक्रिय रखने के लिए तीन साल में कम-से-कम एक बार निकासी या जमा करना जरूरी है।

निवेश पूरी तरह से सुरक्षित है
डाकघर की बचत योजनाओं में निवेश की गई पूरी राशि 100 प्रति सुरक्षित रहती है। इसकी जमाओं पर सॉवरेन सुनिश्चित होता है। इसका मतलब है कि अगर डाकघर खाताधारकों का पैसा लौटाने में विफल रहता है, तो सरकारी अधिकारियों के पैसों की यकीन लेती है।

डाकघर बचत के बारे में खास बातें …

  • न्यूनतम 50 रुपये निकाले जा सकते हैं, निवेश की कोई सीमा नहीं।
  • न्यूनतम बैलेंस 500 रुपये से कम होने पर निवेश नहीं कर सकता।
  • हर महीने की 10 तारीख और महीने के अंत में खाते में न्यूनतम बैलेंस के आधार पर ब्याज की गणना होगी।
  • इस दौरान न्यूनतम बैलेंस 500 रुपये से कम होने पर ब्याज नहीं मिलेगा।
  • शिशु कानून की धारा 80 टीटीए के तहत 10,000 रुपये तक के ब्याज पर नहीं लगेगा।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: