अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
अद्यतित सत, १२ दिसंबर २०१० ०२:०४ एएम IST

इलाहाबाद उच्च न्यायालय
– फोटो: पीटीआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

* सिर्फ ₹ 299 सीमित अवधि की पेशकश के लिए वार्षिक सदस्यता। जल्दी करो!

ख़बर सुनकर

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि प्रत्येक बच्चे की अभिरक्षा माता या पिता को देते समय यह देखने के लिए अनिवार्य है कि उसका सही विकास किसकी अभिरक्षा में होगा। यहां सिर्फ आर्थिक स्थिति को देखते हुए ही महत्वपूर्ण नहीं है अपितु बच्चे का बौद्धिक विकास होना अधिक महत्वपूर्ण तत्व है। कोर्ट ने कहा कि बच्चे को माता-पिता की देखरेख व प्यार पाने का अधिकार है। बच्चे का हित अभिरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।

कोर्ट ने डेढ़ लाख वार्षिक कृषि आय वाले पिता के बजाय कोई आय न होने के बावजूद कर्नाटकस्नातककृत मां को बच्चे की अभिरक्षा सौंप दी है। पिता को माह में दो दिन दूसरे व चौथे रविवार को बच्चे से मिलने देने का निर्देश दिया जाता है। यह आदेश न्यायमूर्ति जे। जे। मुनेर ने मीनाक्षी की याचिका पर दिया है। कोर्ट ने कहा कि बच्चे के विकास के लिए माता-पिता का दिशानिर्देश जरूरी है।

/ची मीनाक्षी की शादी 2014 में राम नारायण से हुई और 2016 में बच्चे का जन्म हुआ। दहेज उत्पीड़न के कारण मीनाक्षी 2018 में बच्चे के साथ मायके आ गए। छह अप्रैल 19 को पति बच्चे को जबरन उठा ले गया तो उसने हाईकोर्ट की शरण ली थी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि प्रत्येक बच्चे की अभिरक्षा माता या पिता को देते समय यह देखने के लिए अनिवार्य है कि उसका सही विकास किसकी अभिरक्षा में होगा। यहां सिर्फ आर्थिक स्थिति को देखते हुए ही महत्वपूर्ण नहीं है अपितु बच्चे का बौद्धिक विकास होना अधिक महत्वपूर्ण तत्व है। कोर्ट ने कहा कि बच्चे को माता-पिता की देखरेख व प्यार पाने का अधिकार है। बच्चे का हित अभिरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।

कोर्ट ने डेढ़ लाख वार्षिक कृषि आय वाले पिता के बजाय कोई आय न होने के बावजूद कर्नाटकस्नातककृत मां को बच्चे की अभिरक्षा सौंप दी है। पिता को माह में दो दिन दूसरे व चौथे रविवार को बच्चे से मिलने देने का निर्देश दिया जाता है। यह आदेश न्यायमूर्ति जे। जे। मुनेर ने मीनाक्षी की याचिका पर दिया है। कोर्ट ने कहा कि बच्चे के विकास के लिए माता-पिता का दिशानिर्देश जरूरी है।

/ची मीनाक्षी की शादी 2014 में राम नारायण से हुई और 2016 में बच्चे का जन्म हुआ। दहेज उत्पीड़न के कारण मीनाक्षी 2018 में बच्चे के साथ मायके आ गए। छह अप्रैल 19 को पति बच्चे को जबरन उठा ले गया तो उसने हाईकोर्ट की शरण ली थी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: