लंदन से मुंबई पहुंचे भारतीय नागरिक
– फोटो: एएनआई

ख़बर सुनता है

कोरोनावायरस को फैलाने से रोकने के लिए जीवन में शुरू हुई यात्रा पाबंदियों के कारण ब्रिटेन में फंसे 326 भारतीय नागरिकों का पहला समूह लंदन से शनिवार देर रात मुंबई पहुंच गया।

एक सूत्र ने बताया कि एयर इंडिया का बोइंग 777 विमान शनिवार को लंदन से रवाना हुआ और 326 भारतीयों को लेकर देर रात करीब डेढ़ बजे मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज आंतरिक हवाईअड्डे (सीबीआईआईए) पर उरा।

विमान में सवार एक यात्री ने ट्वीट किया कि पहले विमान मुंबई उरा और क्रू सदस्यों के यात्रियों के साथ बहुत कम संपर्क रहा। सीट पर पहले केवल नाश्ता और भोजन के साथ रक्षात्मक किट भी दी गई थी। अब पृथकवास का वक्त है।

एक अन्य यात्री ने ट्वीट किया कि ब्रिटेन से सुरक्षित मुंबई पहुंच गए। एयर इंडिया, लंदन में भारतीय उच्चायोग, नेशनल इंडियन स्टूडेंट्स और एलुमनी यूनियन ब्रिटेन और भारत के विदेश मंत्रालय का बहुत ही निर्णायक।

हवाईअड्डे के अधिकारियों ने शनिवार को एक बयान में बताया कि यहां पहुंचने वाले जिन यात्रियों को बीमारी के लक्षण होंगे, उन्हें पृथक केंद्र ले जाया जाएगा। बयान में बताया गया है कि मुंबई में रहने वाले उन यात्रियों को होटलों की तरह पृथक केंद्रों में ले जाया जाएगा जिनमें बीमारी के लक्षण नहीं दिख रहे हैं, जबकि शहर के बाहर के लोगों को उनके जिला मुख्यालयों तक ले जाने की व्यवस्था की जाएगी।

कोरोनावायरस को फैलाने से रोकने के लिए जीवन में शुरू हुई यात्रा पाबंदियों के कारण ब्रिटेन में फंसे 326 भारतीय नागरिकों का पहला समूह लंदन से शनिवार देर रात मुंबई पहुंच गया।

एक सूत्र ने बताया कि एयर इंडिया का बोइंग 777 विमान शनिवार को लंदन से रवाना हुआ और 326 भारतीयों को लेकर देर रात करीब डेढ़ बजे मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज आंतरिक हवाईअड्डे (सीबीआईआईए) पर उरा।

विमान में सवार एक यात्री ने ट्वीट किया कि पहले विमान मुंबई उरा और क्रू सदस्यों के यात्रियों के साथ बहुत कम संपर्क रहा। सीट पर पहले केवल नाश्ता और भोजन के साथ रक्षात्मक किट भी दी गई थी। अब पृथकवास का वक्त है।

एक अन्य यात्री ने ट्वीट किया कि ब्रिटेन से सुरक्षित मुंबई पहुंच गए। एयर इंडिया, लंदन में भारतीय उच्चायोग, नेशनल इंडियन स्टूडेंट्स और एलुमनी यूनियन ब्रिटेन और भारत के विदेश मंत्रालय का बहुत ही निर्णायक।

हवाईअड्डे के अधिकारियों ने शनिवार को एक बयान में बताया कि यहां पहुंचने वाले जिन यात्रियों को बीमारी के लक्षण होंगे, उन्हें पृथक केंद्र ले जाया जाएगा। बयान में बताया गया है कि मुंबई में रहने वाले उन यात्रियों को होटलों की तरह पृथक केंद्रों में ले जाया जाएगा जिनमें बीमारी के लक्षण नहीं दिख रहे हैं, जबकि शहर के बाहर के लोगों को उनके जिला मुख्यालयों तक ले जाने की व्यवस्था की जाएगी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: