• केन्या में कर्फ्यू का उल्लंघन करने या मुखौटा न पहनने के कारण पकड़े गए लोगों को पुलिस थानों में न भेजकर क्वारांतिन में भेजा जा रहा है।
  • उन्हें कई बार तो चेतों के साथ ही रख दिया जाता है, हाल ही में 7 और लोग वहां से बाहर निकले हैं, उनके बारे में वे बेहद गंभीर थे।

अब्द लतीफ दरी

10 मई, 2020, 09:13 पूर्वाह्न IST

नैरोबी (केन्या)। केन्या की सरकार को कोरोनावायरस के संकट से निपटने की चुनौती के बीच अब क्वारंटाइन में लोगों से हो रहे व्यवहार को लेकर विरोध और आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। वास्तव में, नैरोबी में क्वारंटाइन किए गए कई लोगों को 14 दिन की सीमा पूरी होने के बावजूद बाहर नहीं निकलने के बावजूद दिया जा रहा है। उन्हें वहाँ से निकलने के बदले पैसे की माँग की जा रही है।

कहा जा रहा है कि यह उन पर हुए खर्च की वसूली है, लेकिन ऐसा नहीं है। ऐसा ही एक मामला वेलेंटाइन ओचोगो का है। वे बताती हैं, “जब मैं दुबई में नौकरी से निकाले जाने के बाद केन्या पहुंची, तो एक विश्वविद्यालय के छात्रावास में अन्य यात्रियों के साथ क्वारंटाइन में रखा गया था। लेकिन, 14 दिन क्वारंटाइन और तीन टेस्ट निगेटिव आने के बावजूद बाहर नहीं निकल पाए। गया। मुझे बताया गया कि जब तक लगभग 31 हजार रुपए नहीं होंगे, जाने नहीं दिया जाएगा। आखिरकार चार हजार रुपए में बात तय हुई। मैं 32 दिन बाद वहां से निकल गया। पाई। लेकिन, कई लोग वहां फंसे हैं। ”

लोगों को पकड़कर थानों के बजाए क्वारंटाइन में भेजा जा रहा है

केन्या में कर्फ्यू का उल्लंघन करने या मुखौटा न पहनने के कारण पकड़े गए लोगों को पुलिस थानों में न भेजकर क्वारांताइन में भेजा जा रहा है। उन्हें कई बार तो चेतों के साथ ही रख दिया जाता है। हाल ही में 7 और लोग वहां से बाहर निकले हैं। उन्होंने बताया कि बेहद गंदी जगहों पर रखा गया था। वहाँ न भोजन था, न पानी और न ही टेस्ट के नतीजे बताए जाते थे।

दूसरी ओर क्वारंटाइन में लोगों के साथ दुर्व्यवहार की बातें बाहर आने के बाद लोग सरकार के विरोध में उतर आए हैं। मोई यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसिन के डॉ। लुकोए एटवोली कहते हैं, “जबरदस्त करने के बजाय लोगों को सहयोग करने के लिए राजी करने की ज़रूरत है, खासकर अगर आप उनकी भलाई करने का तर्क दे रहे हों। ”

स्थिति पता चलने पर लोग टेस्ट करवाने के बाद आगे नहीं आ रहे हैं

केन्या में एक महीने में 50 लोग क्वारंटाइन से भाग चुके हैं। इसके अलावा क्वारंटाइन सेंटर में दुर्व्यवहार और पैसे मांगे जाने की खबरों के बाद अब लोग कोरोना के लक्षण दिखने के बावजूद टेस्ट करवाने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। ऐसे में सरकार हरकत में आई है और स्वास्थ्य मंत्रालय ने सफाई दी है कि व्यवस्था सुर्ड जा रही है, शुल्क पर रोक लगाएंगे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

%d bloggers like this: