बीजिंग: तीन दवाओं को मिला कर पहले परीक्षण के निष्कर्षों के अनुसार किया गया को -19 (COVID-19) के लक्षण दिखने के सात दिनों के अंदर शुरू किए गए दो सप्ताह के इस विषाणु रोधी उपचार से रोगियों के ठीक होने की प्रक्रिया में सुधार आ सकता है और अस्पताल में बने कर इलाज कराने की मीयाद घट सकती है।

‘द लैंसेट’ पत्रिका में छपे अध्ययन में हांगकांग के 6 सरकारी अस्पतालों के 127 वयस्क सम्मिलित हुए और उन पर कोरोनावायरस के संक्रमण को कम करने में वायरस रोधी दवा की प्रभाव क्षमता की जांच की गई।

ये भी पढ़ें- सेहत पर झूठी अफवाह फैलाने वालों को गृह मंत्री अमित शाह का जवाब- मैं स्वस्थ हूं, मुझे कोई बीमारी नहीं है

शोधकर्ताओं के मुताबिक, उपचार में इंटरफेरॉन बीटा -1 बी, विषाणु रोधी दवा लोपिनाविर-रिटोनाओवर और रिबाविरेन के संयोजन को शामिल किया गया। यह संयोजन लोपीनावीर-रिटेनोनाविर की तुलना में संक्रमण को कम करने में बेहतर साबित हुआ।

उन्होंने तीसरे चरण में वृहद् परीक्षण की आवश्यकता पर बल दिया ताकि गंभीर रूप से बीमार रोगियों के इलाज में इन तीन दवाओं के संयोजन के प्रभाव की जांच की जा सके। उन्होंने कहा कि ये प्रारंभिक निष्कर्ष केवल हल्के बीमार लोगों के उपचार से निकाले गए।

वैज्ञानिकों ने कहा कि लोपीनाविर-रिटोनावोर की तुलना में इन दवाओं के इलाज से सुधार अधिकतम ज्यादा दिखाने की ओर लोग कम समय तक अस्पतालों में रह सकते हैं।

(इनपुट: भाषा)

ये भी देखें-





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: