• ग्रॉस मार्केट बारोविंग का लक्ष्य पहले 7.8 लाख करोड़ रुपये तय किया गया था
  • आरबीआई और सरकार ने शुक्रवार को कहा कि अब यह जरूरी हो गया है

दैनिक भास्कर

09 मई, 2020, 10:08 AM IST

मुंबई। कोविड -19 महामारी के झटकों से उबरने के लिए सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए प्रो सकल बाजारदाताओं (सकल बाजार उधार) बढ़ा दिया है। इसे 7.8 लाख करोड़ रुपये के बजट से बढ़ाकर 12 लाख करोड़ रुपये कर दिया गया है। सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक ने दो अलग-अलग बयानों में कहा, कि उर्ड में संशोधन को विभाजित -19 महामारी के कारण आवश्यक हो गया है।)

गिल्ट्स के जरिए सरकारें लेगी 6 लाख करोड़
वर्ष के लिए कुल उधारी अर्थात बोरोइंग में हुई वृद्धि के साथ-साथ वित्तीय वर्ष की पहली सेल के शेष के लिए उधार कैलेंडर भी जारी किया गया है। संशोधित कैलेंडर के अनुसार सरकार वर्ष की पहली सेल के बचे हुए हिस्से से गिल्ट्स के जरिए बाजार से 6 लाख करोड़ रुपए उधार लेगी। प्रत्येक साप्ताहिक नीलामी के लिए नीलामी का आकार 11 मई के सप्ताह से बढ़कर 30,000 करोड़ रुपये हो जाएगा।

अप्रैल-सितंबर में सरकार लेगी आक्रामकता रूप से उधार देती है
भारत पिछले आठ हफ्तों से लॉकडाउन के दौर से गुजर रहा है, जिससे बड़े पैमाने पर आर्थिक नुकसान हुआ है। मूडीज ने इस साल देश के लिए 0 प्रतिशत की वृद्धि का पूर्वानुमान लगाया है। मार्च में आर्थिक मामलों के सचिव अणु चक्रवर्ती ने कहा था कि सरकार को विभाजित -19 के प्रकोप को कम करने के लिए अप्रैल-सितंबर की अवधि में अनुमान से अधिक आक्रामक रूप से उधार लेने की योजना बना रही है। चक्रवर्ती ने कहा कि सरकारी उद्योगों के पुनरुत्थान और निपटान के लिए जो कुछ भी आवश्यक होगा, वह करेगा। हमारे फंड बढ़ाने वाले संसाधन न केवल मंचों से बल्कि बहुपक्षीय एजेंसियों से भी सक्षम हैं।

राजकोषीय कार्यों को संशोधित करना होगा
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-21 के अपने बजट में नए वित्त वर्ष में 7.8 लाख करोड़ रुपये की सकल उधारी का अनुमान लगाया था, जो 2019-20 के लिए अनुमानित 7.1 लाख करोड़ रुपये से अधिक है। उधारी अनुमान में वृद्धि के साथ, सरकार को चालू वित्त वर्ष के लिए 3.5 प्रतिशत आंके गए अपने राजकोषीय कार्य के लक्ष्य को और अधिक संशोधित करना होगा।

जीडीपी इंड तरह, रिले पैकेज का इंतजार
बता दें कि सरकार को इस बार बजट गैप, राजकोषीय घाटे के साथ जीडीपी वृद्धि के मोर्चे पर काफी कुछ करना होगा। यह सभी को विभाजित -19 से बुरी तरह प्रभावित हैं। ऐसा नहीं है, तमाम रेटिंग एजेंसियों ने इस वर्ष की जीडीपी की वृद्धि दर को जीआरओ तक लागू कर दिया है। सरकार अभी तक कोविड -19 के लिए केवल एक बार 1.70 लाख करोड़ रुपये का पैकेज जाहिर की है। अगर उसे ज्यादा पैकेज जारी करना पड़ा तो सरकार को आगे और भी उधार लेने की जरूरत पड़ेगी। हालांकि सरकार से दूसरे बड़े पैकेज की उम्मीद है, लेकिन यह अभी तक जाहिर नहीं हुआ है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: