ख़बर सुनता है

संयुक्त अरब अमीरात में फंसे भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाने के लिए एयर इंडिया एक्सप्रेस के दो विमानों बृहस्पतिवार को केरल से रवाना किया गया है। कोविड -19 की वजह से लागू बंद के कारण ये लोग खाड़ी क्षेत्र में फंसे हुए हैं।

इन विमानों से अबू धाबी और दुबई से 340 यात्री बृहस्पतिवार रात तक कोच्चि और कोज़िकोड पहुंचेंगे। इन यात्रियों में गर्भवती महिलाएं, नवजात बच्चे और चिकित्सा स्वास्थ्य की स्थिति वाले लोग हैं। एक अन्य स्रोतों ने बताया कि भारतीय नागरिकों (ज्यादातर यात्री केरल से हैं) को अबू धाबी से लाने के लिए पहले विमान कोचीन आंतरिक हवाई अड्डे से प्रस्थान हुआ।

विमान अबू धाबी से शाम चार बजकर 15 मिनट पर वहाँ से यात्रियों को लेकर उड़ान भरी हुई और रात नौ बज कर 40 मिनट पर सिग्नल स्थान पर पहुंच जाएगा। वहीं दुबई से शाम पांच बजे कोज़िकोड़ के लिए दूसरा प्रस्थान होगा और वह 10 बजकर 40 मिनट पर प्रसव स्थान पर पहुंचेगा। इसके अतिरिक्त नौसेना के तीन जहाज भी फंसे हुए नागरिकों को स्वदेश लाने के लिए मालदीव और संयुक्त अरब अमीरात भेजे गए हैं।

राज्य के मुख्य सचिव टॉम जोस ने कहा कि सिर्फ कोविड -19 के निगेटिव लोगों को विमान में चढ़ने की अनुमति दी गई है और उनके पीछे लौटने के बाद भी गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को छोड़कर अन्य सभी सात दिन तक संस्थानों में पृथक वास। रहेंगे।

उन्होंने तिरुवनंतपुरम में संवाददाताओं से कहा कि पृथक-वास केंद्रों में होटल भी शामिल हैं। पृथक-वास में रखे गए लोगों की जांच सात दिन के बाद की जाएगी और निगेटिव पाए जाने के बाद उन्हें घर पर अलग रखने के लिए भेज दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हमने गृह मंत्रालय को सभी चीजें स्पष्ट कर दी हैं। गृह मंत्रालय ने 14 दिन पृथक-वास अवधि तय की है। जो लोग को विभाजित -19 निगेटिव पाए जाते हैं, बस उन्हें केवल विमान में चढ़ने की अनुमति होगी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पहले चरण की प्रक्रिया में आठ विमान, 60 पायलट और 120 चालक दल के सदस्य शामिल हैं।

संयुक्त अरब अमीरात में फंसे भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाने के लिए एयर इंडिया एक्सप्रेस के दो विमानों बृहस्पतिवार को केरल से रवाना किया गया है। कोविड -19 की वजह से लागू बंद के कारण ये लोग खाड़ी क्षेत्र में फंसे हुए हैं।

इन विमानों से अबू धाबी और दुबई से 340 यात्री बृहस्पतिवार रात तक कोच्चि और कोज़िकोड पहुंचेंगे। इन यात्रियों में गर्भवती महिलाएं, नवजात बच्चे और चिकित्सा स्वास्थ्य की स्थिति वाले लोग हैं। एक अन्य स्रोतों ने बताया कि भारतीय नागरिकों (ज्यादातर यात्री केरल से हैं) को अबू धाबी से लाने के लिए पहले विमान कोचीन आंतरिक हवाई अड्डे से प्रस्थान हुआ।

विमान अबू धाबी से शाम चार बजकर 15 मिनट पर वहाँ से यात्रियों को लेकर उड़ान भरी हुई और रात नौ बज कर 40 मिनट पर सिग्नल स्थान पर पहुंच जाएगा। वहीं दुबई से शाम पांच बजे कोज़िकोड़ के लिए दूसरा प्रस्थान होगा और वह 10 बजकर 40 मिनट पर प्रसव स्थान पर पहुंचेगा। इसके अतिरिक्त नौसेना के तीन जहाज भी फंसे हुए नागरिकों को स्वदेश लाने के लिए मालदीव और संयुक्त अरब अमीरात भेजे गए हैं।

राज्य के मुख्य सचिव टॉम जोस ने कहा कि सिर्फ कोविड -19 के निगेटिव लोगों को विमान में चढ़ने की अनुमति दी गई है और उनके पीछे लौटने के बाद भी गर्भवती महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को छोड़कर अन्य सभी सात दिन तक संस्थानों में पृथक वास। रहेंगे।

उन्होंने तिरुवनंतपुरम में संवाददाताओं से कहा कि पृथक-वास केंद्रों में होटल भी शामिल हैं। पृथक-वास में रखे गए लोगों की जांच सात दिन के बाद की जाएगी और निगेटिव पाए जाने के बाद उन्हें घर पर अलग रखने के लिए भेज दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हमने गृह मंत्रालय को सभी चीजें स्पष्ट कर दी हैं। गृह मंत्रालय ने 14 दिन पृथक-वास अवधि तय की है। जो लोग को विभाजित -19 निगेटिव पाए जाते हैं, बस उन्हें केवल विमान में चढ़ने की अनुमति होगी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पहले चरण की प्रक्रिया में आठ विमान, 60 पायलट और 120 चालक दल के सदस्य शामिल हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: