• वैज्ञानिक डॉ। रिक ब्रिट ने मंगलवार को अमेरिका के विशेष काउंसिल कार्यालय में स्वास्थ्य अधिकारियों के खिलाफ शिकायत की
  • ब्राइट ने शिकायत में कहा- फेडरल ड्रग एसोसिएशन (एफडीए) ने भारत की दवा बनाने वाली कंपनियों का दृष्टिकोण नहीं किया

दैनिक भास्कर

06 मई, 2020, 12:09 अपराह्न IST

अमेरिका के एक वैज्ञानिक ने दावा किया है कि ट्रम्प प्रशासन ने कोरोना से जुड़ी चेतावनियों को नजरअंदाज किया। वैज्ञानिक डॉ। रिक ब्रिट ने मंगलवार को अमेरिका के विशेष काउंसिल कार्यालय में इसे लेकर शिकायत दर्ज कराई। कहा गया है कि ट्रम्प प्रशासन के स्वास्थ्य अधिकारियों को भारत से मिल रही कम गुणवत्ता वाली मलेरिया की दवा खासकर हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन को लेकर आगाह किया गया था। पीसीबीई किट की गुणवत्ता अच्छी नहीं होने के बारे में भी बताया गया। हालाँकि, अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया।
डॉ। ब्राइट वर्तमान में सेवा से हटा दिए गए हैं। इससे पहले वे बायोमेडिकल एडवांस्ड रिसर्च डेवलपमेंट अथॉरिटी के प्रमुख थे। यह अमेरिका के स्वास्थ्य और ह्यूसमैन सेवाओं (एचएचएस) विभाग की देखरेख में काम करने वाली शोध एजेंसी है।

‘दवा भेजने वाली कंपनियों का नहीं हुआ नियंत्रण’
ब्राइट ने अपनी शिकायत में कहा कि फेडरल ड्रग एसोसिएशन (एफडीए) ने भारत की दवा बनाने वाली कंपनियों का निरीक्षण नहीं किया है। ऐसी में वहाँ से आ रही दवाओं को लेकर चिंता है। ऐसी कंपनियों की दवाएँ हो सकती हैं। ये पर्याप्त डोज का अभाव हो सकता है। अगर गुणवत्ताहीन दवा किसी को दी जाती है, तो उसे नुकसान हो सकता है। इन सभी दस्तावेजों को जानते हुए भी ट्रम्प प्रशासन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने अमेरिका के बाजार में बड़े पैमान पर यह दवाएं उतार दीं।

भारत ने अमेरिका को दी है हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा

भारत ने कोरोना संक्रमण के बाद अमेरिका को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाएं उपलब्ध करवाई है। भारत ने देश में इस दवा की उपलब्धता बनाए रखने के लिए इसके एक्स पर रोक लगा रखी थी। हालांकि, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड्ट ट्रम्प ने भारत से दवा उपलब्ध करवाने की मांग की। इसके बाद के बाद भारत ने एक्स पर लगे प्रतिबंधों को हटा दिया। दो जहाजों से दवा अमेरिका भेजी गई थी। इसके बाद ट्रम्प ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मदद के लिए धन्यवाद दिया था। भारत अमेरिका के साथ ही दुनिया के कई और देशों को यह दवा भेज चुकी है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: