विश्व स्वास्थ्य संगठन
– फोटो: सोशल मीडिया

ख़बर सुनता है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अमेरिका के उस दावे पर फिर सवाल उठाया जिसमें कहा गया था कि पूरी दुनिया में फैली कोरोना महामारी को चीन के वुहान में पैदा किया गया है। डब्ल्यूएचओ के मुख्य निदेशक माइकल रेयान ने कहा, हमें अमेरिका ने वायरस के वुहान उद्योग में विकसित होने का कोई सुबूत या डेटा नहीं दिया है।]

हमारी गणना से यह केवल एक कल्पना है। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को डब्ल्यूएचओ में इस बात के साक्ष्य देने थे कि यह महामारी चीन की प्रयोगशाला में पैदा हुई है। जबकि डब्लूएचओ इससे पहले भी संक्रमण से निपटने के लिए चीन की तारीफ कर चुका है जिसके कारण ट्रम्प प्रशासन ने हाल के दिनों में संक्रमण को लेकर चीन पर हमला तेज कर दिया है।

यहां तक ​​कि अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली फंडिंग पर भी रोक लगा दी है। ट्रम्प और पोम्पियो ने कहा था कि यह वायरस वुहान के जापान में बना है और वहां से फैला है। हमारे पास इसके खंड हैं।

चीन-अमेरिका में हो सकता है सैन्य टकराव

एक आंतरिक रिपोर्ट में चीन की सरकार को चेतावनी दी गई है कि महामारी की वजह से अमेरिका के साथ उसके रिश्ते काफी खराब हो सकते हैं। यही नहीं, अमेरिका-चीन में सैन्य टकराव की नौबत भी आ सकती है, क्योंकि चीन ने समय पर कोरोना से जुड़ी जानकारी दुनिया के सामने नहीं रखी है।

रिपोर्ट को थिंक टैंक बालना इंस्टीट्यूट ऑफ कंटेंपररी इंटरनेशनल रिलेशंस ने तैयार किया है, जो चीन के राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्रालय से संबद्ध है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अमेरिका के उस दावे पर फिर सवाल उठाया जिसमें कहा गया था कि पूरी दुनिया में फैली कोरोना महामारी को चीन के वुहान में पैदा किया गया है। डब्ल्यूएचओ के मुख्य निदेशक माइकल रेयान ने कहा, हमें अमेरिका ने वायरस के वुहान उद्योग में विकसित होने का कोई सुबूत या डेटा नहीं दिया है।]

हमारी गणना से यह केवल एक कल्पना है। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को डब्ल्यूएचओ में इस बात के साक्ष्य देने थे कि यह महामारी चीन की प्रयोगशाला में पैदा हुई है। जबकि डब्लूएचओ इससे पहले भी संक्रमण से निपटने के लिए चीन की तारीफ कर चुका है जिसके कारण ट्रम्प प्रशासन ने हाल के दिनों में संक्रमण को लेकर चीन पर हमला तेज कर दिया है।

यहां तक ​​कि अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली फंडिंग पर भी रोक लगा दी है। ट्रम्प और पोम्पियो ने कहा था कि यह वायरस वुहान के जापान में बना है और वहां से फैला है। हमारे पास इसके खंड हैं।

चीन-अमेरिका में हो सकता है सैन्य टकराव

एक आंतरिक रिपोर्ट में चीन की सरकार को चेतावनी दी गई है कि महामारी की वजह से अमेरिका के साथ उसके रिश्ते काफी खराब हो सकते हैं। यही नहीं, अमेरिका-चीन में सैन्य टकराव की नौबत भी आ सकती है, क्योंकि चीन ने समय पर कोरोना से जुड़ी जानकारी दुनिया के सामने नहीं रखी है।

रिपोर्ट को थिंक टैंक बालना इंस्टीट्यूट ऑफ कंटेंपररी इंटरनेशनल रिलेशंस ने तैयार किया है, जो चीन के राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्रालय से संबद्ध है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: