सुरेश रैना ने सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली के बीच का अंतर बताया (फाइल फोटो)

टीम इंडिया (टीम इंडिया) के इस शतार खिलाड़ी के अनुसार पहले अंतर तो ये है कि विराट कोहली (विराट कोहली) मैच जीतना चाहते हैं, वहीं सचिन तेंदुलकर (सचिन तेंदुलकर) की कोशिश शांत रहकर सब करने की कोशिश थी।

नई दिलवाली विराट कोहली (विराट कोहली) और सचिन तेंदुलकर (सचिन तेंदुलकर) भारतीय क्रिकेट में चुने हुए बड़े नामों में से दो बड़े नाम हैं। जहाँ कोहली भारतीय क्रिकेट के आधुनिक युग को बताते हैं, वहीं सचिन तेंदुलकर भारतीय क्रिकेट के गोल्डन समय की यादों को ताजा करते हैं। 2011 वर्लड कप की विजयी भारतीय टीम का हाल ही में सुरेश रैना (सुरेश रैना) उन भाग्‍यशाली क्रिकेटरों में से एक हैं, जिन्‍हें दोनों के साथ खेलने का मौका मिला। खलीज तिर्मस को हाल ही में दिए गए एक इंटरव्यूू में रैना ने दोनों खिलाड़ियों के साथ अपने खेल के अनुभव के बारे में बताया। साथ ही यह भी बताया कि आखिरकार कोहली सचिन से काफी अलग हैं। रैना ने कहा कि सचिन और विराट दोनों के नाम ही काफी शतक है। विराट मैच जीतना चाहते हैं तो वहीं सचिन की हमेशा कोशिश रहती है कि सब कुछ बहुत शांत हो जाए।

सचिन ने दिलाया टीम को भरोसा

रैना ने कहा कि सचिन के कारण ही टीम 2011 वर्लड कप जीत पाई। वो इकलौत ऐसी रियासत थे, जिन्दी पूरी टीम को भरोसा दिलाया कि हम ये कर सकते हैं। वह हमारे लिए दूसरे कोच की तरह थे। वहीं विराट के लिए रैना ने कहा कि वे हर फॉर्मेट में काम कर रहे हैं। कोहली बेहतरीन कपतान हैं। वो गेंद को तेजी से मारते हैं। कोहली के आसपास जो भी रहता है, वह काफी पॉजिटिव रहता है। रैना ने कहा कि मैं काफी भाग्‍यशाली हूं कि दोनों के साथ खेलने का मौका मिला। 2011 के विश्व कप में सचिनंदुलकर ने 53.55 की औसत से 482 रन बनाए थे। सबसे ज्यादा रन बनाने वालों की लिस्ट में वह दूसरे नंबर पर थे। सचिन का स्ट्राइक रेट लगभग 92 का था।

मेसी से की सचिन की तुलनाइस दौरान रैना ने सचिन की तुलना अर्जेटीना के दिग्‍गज फुटबोलर लियोनल मेसी से कर दी। उन्होंने कहा कि मैं मेसी का बहुत बड़ा फैन हूं। वह जमीन से जुड़े व्यवसायी हैं। सचिन और मेसी दोनों ही अपने आसपास के लोगों की फिक्र करने में काफी अच्छे हैं। उन्होंने कहा कि खेल में आपको विनम्र रहना होता है। उन्होंने कहा कि आप दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी बन सकते हैं, लेकिन आपकी विरासत सबसे महत्वपूर्ण होती है। आपको हर एक के लिए आभार जताने की जरूरत होती है।

अपने ही कुछ खिलाड़ियों से ‘डरा’ नोआसटन बोर्ड, उठाने जा रहा है बड़ा कदम!

‘1992 के बाद अपने ही देश को वर्लड कप जीतते हुए नहीं देखना चाहते थे अकरम’

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए क्रिकेट से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 5 मई, 2020, सुबह 9:18 बजे IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: