अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली
अद्यतित Tue, 05 मई 2020 09:53 PM IST

दिल्ली कोरोनावायरस में
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

दिल्ली में कोरोना और आंकड़े का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। मंगलवार को अलग-अलग क्षेत्रों से 206 लोग पॉजिटिव मिले। उनमें पूंजी सहित चेतों की संख्या 5104 हो गई है। मंगलवार को केवल 37 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। इनमें अब तक 1468 मरीजों को डिस्चॉर्ज किया गया है, जबकि 64 लोगों की मौत हुई है। अभी 533% मरीज होम आइसोलेशन में हैं। राजधानी में कोरोनावायरस को लेकर 67852 जांच हो चुकी हैं।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार राजधानी में प्रति 10 लाख पर 3235 लोगों की जांच हो रही है, जबकि संक्रमण दर अभी भी सात प्रतिशत प्रति हुई है। इसके अलावा दिल्ली में रिकवरी दर 29 प्रतिशत पहुंच गई है जोकि राष्ट्रीय स्तर से बहुत ज्यादा है। दिल्ली में राष्ट्रीय औसत की तुलना में मृत्युदर 1.25 प्रति है जोकि आधा से भी कम है।

दो और हॉस्पोट्समेंट जोन से बाहर, 89 बचे
कोरोनावायरस से संक्रमण के नए मामले न आने से लगातार तीसरे दिन दिल्ली में भ्रूण संबंधी क्षेत्र की संख्या में कमी आई है। सरकार ने मंगलवार को दो नए क्षेत्रों को जोन से बाहर कर दिया। इसमें पश्चिमी दिल्ली का पश्चिम विहार इलाका और हरनगर इलाका शामिल है। अब दिल्ली में 89 वांमेंट जोन बने हुए हैं।

अधिकारियों का कहना है कि पिछले एक सप्ताह में दिल्ली के 12 इलाके में जोन से बाहर हुए हैं। दूसरी तरफ मंगलवार को भी ऐसा कोई इलाका नहीं मिला, जिसे ट्रांसप्सी की वजह से हेलोस्पॉट घोषित कर दिया गया हो। आने वाले दिनों में दूसरे क्षेत्रों की भी सीलिंग खुल जाएगी।

जीबी पंट में दो और मरीजों को कोरोना
दिल्ली के जीबी पंत अस्पताल में भर्ती मरीजों में भी कोरोना संक्रमण मिल रहा है। मंगलवार को दो और मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई। यहां भर्ती अब तक सात रोगी टाइप हो चुके हैं, जबकि एक डॉ की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।
बताया जा रहा है कि जिन दो मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है उनमें से एक अंतरस्ट्रो विभाग में भर्ती है और दूसरे हार्ट के में है। अभी तक अस्पताल प्रबंधन की ओर से मरीजों में बढ़ रही कोरोना संक्रमण के स्रोत को लेकर जानकारी नहीं दी गई है।

अस्पताल में तैनात स्वास्थ्य कर्मचारियों का कहना है कि 40 स्टाफ और 16 मरीजों की सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मचारियों और मरीजों की सुरक्षा को लेकर कोई खास इंतजाम नहीं किए जाने के आरोप भी लग रहे हैं। आशंका जताई जा रही है कि अगले एक से दो दिन में हानिकारक रोगियों की संख्या बढ़ सकती है।

दिल्ली में कोरोना और आंकड़े का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। मंगलवार को अलग-अलग क्षेत्रों से 206 लोग पॉजिटिव मिले। उनमें पूंजी सहित चेतों की संख्या 5104 हो गई है। मंगलवार को केवल 37 मरीजों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। इनमें अब तक 1468 मरीजों को डिस्चॉर्ज किया गया है, जबकि 64 लोगों की मौत हुई है। अभी 533% मरीज होम आइसोलेशन में हैं। राजधानी में कोरोनावायरस को लेकर 67852 जांच हो चुकी हैं।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार राजधानी में प्रति 10 लाख पर 3235 लोगों की जांच हो रही है, जबकि संक्रमण दर अभी भी सात प्रतिशत प्रति हुई है। इसके अलावा दिल्ली में रिकवरी दर 29 प्रतिशत पहुंच गई है जोकि राष्ट्रीय स्तर से बहुत ज्यादा है। दिल्ली में राष्ट्रीय औसत की तुलना में मृत्युदर 1.25 प्रति है जोकि आधा से भी कम है।

दो और हॉस्पोट्समेंट जोन से बाहर, 89 बचे

कोरोनावायरस से संक्रमण के नए मामले न आने से लगातार तीसरे दिन दिल्ली में भ्रूण संबंधी क्षेत्र की संख्या में कमी आई है। सरकार ने मंगलवार को दो नए क्षेत्रों को जोन से बाहर कर दिया। इसमें पश्चिमी दिल्ली का पश्चिम विहार इलाका और हरनगर इलाका शामिल है। अब दिल्ली में 89 वांमेंट जोन बने हुए हैं।

अधिकारियों का कहना है कि पिछले एक सप्ताह में दिल्ली के 12 इलाके में जोन से बाहर हुए हैं। दूसरी तरफ मंगलवार को भी ऐसा कोई इलाका नहीं मिला, जिसे ट्रांसप्सी की वजह से हेलोस्पॉट घोषित कर दिया गया हो। आने वाले दिनों में दूसरे क्षेत्रों की भी सीलिंग खुल जाएगी।

जीबी पंट में दो और मरीजों को कोरोना
दिल्ली के जीबी पंत अस्पताल में भर्ती मरीजों में भी कोरोना संक्रमण मिल रहा है। मंगलवार को दो और मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई। यहां भर्ती अब तक सात रोगी टाइप हो चुके हैं, जबकि एक डॉ की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है।
बताया जा रहा है कि जिन दो मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है उनमें से एक अंतरस्ट्रो विभाग में भर्ती है और दूसरे हार्ट के में है। अभी तक अस्पताल प्रबंधन की ओर से मरीजों में बढ़ रही कोरोना संक्रमण के स्रोत को लेकर जानकारी नहीं दी गई है।

अस्पताल में तैनात स्वास्थ्य कर्मचारियों का कहना है कि 40 स्टाफ और 16 मरीजों की सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मचारियों और मरीजों की सुरक्षा को लेकर कोई खास इंतजाम नहीं किए जाने के आरोप भी लग रहे हैं। आशंका जताई जा रही है कि अगले एक से दो दिन में हानिकारक रोगियों की संख्या बढ़ सकती है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: