महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कोटव ठाकरे (फाइल फोटो)
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

महाराष्ट्र में नौ राज्य विधान परिषद सीटों पर 21 मई को चुनाव होने वाले हैं। सत्तारूढ़ पार्टी शिवसेना ने इस चुनाव में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पार्टी की वरिष्ठ नेता और विधान परिषद की उप सभापति नीलम गोरे की उम्मीदवारी पर मुहर लगा दी है। मुहर लगने के साथ ही कोटव ठाकरे की मुश्किलें कम होती नजर आ रही हैं। बता दें कि ठाकरे न तो विधानसभा के सदस्य हैं और न ही विधान परिषद के इसलिए उन्हें किसी एक सदन की सदस्यता हासिल करनी जरूरी है।

संविधान के अनुसार पद ग्रहण करने के छह महीने के भीतर उनकी विधानसभा या विधान परिषद दोनों में से किसी एक का सदस्य निर्वाचित होना जरूरी है और ऐसा नहीं करने की हालत में उन्हें मुख्यमंत्री पद को त्यागना होगा।

पार्टी के एक नेता ने जानकारी देते हुए बताया कि ठाकरे और गोरे दो सीटों के लिए शिवसेना के उम्मीदवार होंगे। हम उनके निर्विरोध निर्वाचन के प्रयास कर रहे हैं। महाविकास अघाड़ी की वर्तमान संख्या को देखते हुए हम ऊपरी सदन में दो नेताओं को आसानी से चुन सकते हैं।

शिवसेना नेता ने बताया कि ठाकरे अगले कुछ दिन में नामांकन दाखिल करेंगे। चुनाव आयोग की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 11 मई है और नामांकन वापस लेने के अंतिम तारीख 14 मई है।

राज्य विधान परिषद में 288 सीटें हैं जिनमें भाजपा 105 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। इसके बाद शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के क्रमशः: 56, 54 और 44 विधायक हैं।

महाराष्ट्र में नौ राज्य विधान परिषद सीटों पर 21 मई को चुनाव होने वाले हैं। सत्तारूढ़ पार्टी शिवसेना ने इस चुनाव में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पार्टी की वरिष्ठ नेता और विधान परिषद की उप सभापति नीलम गोरे की उम्मीदवारी पर मुहर लगा दी है। मुहर लगने के साथ ही कोटव ठाकरे की मुश्किलें कम होती नजर आ रही हैं। बता दें कि ठाकरे न तो विधानसभा के सदस्य हैं और न ही विधान परिषद के इसलिए उन्हें किसी एक सदन की सदस्यता हासिल करनी जरूरी है।

संविधान के अनुसार पद ग्रहण करने के छह महीने के भीतर उनकी विधानसभा या विधान परिषद दोनों में से किसी एक का सदस्य निर्वाचित होना जरूरी है और ऐसा नहीं करने की हालत में उन्हें मुख्यमंत्री पद को त्यागना होगा।

पार्टी के एक नेता ने जानकारी देते हुए बताया कि ठाकरे और गोरे दो सीटों के लिए शिवसेना के उम्मीदवार होंगे। हम उनके निर्विरोध निर्वाचन के प्रयास कर रहे हैं। महाविकास अघाड़ी की वर्तमान संख्या को देखते हुए हम ऊपरी सदन में दो नेताओं को आसानी से चुन सकते हैं।

शिवसेना नेता ने बताया कि ठाकरे अगले कुछ दिन में नामांकन दाखिल करेंगे। चुनाव आयोग की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 11 मई है और नामांकन वापस लेने के अंतिम तारीख 14 मई है।

राज्य विधान परिषद में 288 सीटें हैं जिनमें भाजपा 105 विधायकों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। इसके बाद शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के क्रमशः: 56, 54 और 44 विधायक हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *