• औद्योगिक गतिविधियों के ठप पड़ने के कारण अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित
  • देश में लॉकडाउन से पहले मार्च महीने में पीएमआई इंडेक्स 51.8 पर रहा था

दैनिक भास्कर

04 मई, 2020, 12:19 बजे IST

मुंबई। लॉकडाउन के कारण देशभर में मांग और सप्लाई चेन पर बुरा असर पड़ा है। इस कारण मैन्युफैक्चरिंग पर्चेजिंग एंडर्स इंडेक्स (पीएमआई) अप्रैल में गिरकर 27.4 पर आ गया। यह अब तक का सबसे निचला स्तर है। इंडेक्स में गिरावट इस बात का संकेत है कि देश में मैन्‍युफैक्‍चिरंग से लेकर लगभग सभी सेक्टर में काम रुक गया है। कोरोनावायरस के कारण 25 मार्च से देशभर में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया था।

2005 में पीएमआई इंडेक्स के शुरू होने के बाद यह न्यूनतम स्तर पर है
औद्योगिक गतिविधियों के रुकने के कारण अप्रैल में पीएमआई इंडेक्स 27.4 पर पहुंच गया। इससे पहले मार्च में यह 51.8 पर था। 2005 में पीएमआई इंडेक्स के शुरू होने के बाद यह न्यूनतम स्तर है। आईएचएस मार्केट में इकोनॉमिस्ट इलियट केर का कहना है कि मार्च में भारत की औद्योगिक गतिविधियों पर ज्यादा असर नहीं पड़ा था, लेकिन अप्रैल में लॉकडाउन के असर को साफ देखा जा सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्पादन में भारी गिरावट आई है और नई संख्या भी नहीं मिल रही है, इससे रोजगार पर भी बुरा असर पड़ने की आशंका है। 2005 में स्टॉक की शुरुआत होने के बाद यह सबसे खराब आंकड़ा है। यह देश के भरोसे की तरफ भी जाने की ओर संकेत करता है।

प्रमुख रेटिंग एजेंसियों ने ग्राउंडहोब के अनुमान को कम किया
लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान से बचाने के लिए सरकार और आरबीआई ने राहत पैकेज की घोषणा की है, इसके बावजूद अर्थव्यवस्था में तेज गिरावट आने की आशंका है। फिच, मूडीज, आईएमएफ, वर्ल्ड बैंक सहित दुनिया की कई बड़ी एजेंसियों ने देश की ग्रोथ रेट के अनुमान में काफी कटौती की है।) बार्कलेज ने ग्रोथ बीस को कम से शून्य पर ला दिया है।

क्या होता है मैन्युफैक्चरिंग पर्चेजिंग एंडर्स इंडेक्स
पर्चेजिंग एक्सचेंजर्स इंडेक्स (पीएमआई) मैन्युफैक्टचरिंग सेटर की आर्थिक सेहत को टक्कर का एक इंडिकेटर है। इसके माध्यम से किसी भी देश की आर्थिक स्थिति का आकलन किया जाता है। पीएमआई सेवा क्षेत्र सहित निजी क्षेत्र की कई गतिविधियों पर आधारित है। इसमें शामिल करें तकरीबन सभी देशों की तुलना एक जैसे मानदंडों से होती है।

पीएमआई का मुख्य पाठ उद्देश्य इकोनॉमी के बारे में पुष्ट जानकारी को आधिकारिक आंकड़ों से भी पहले लेना है, जिससे अर्थवचनशालाओं के बारे में सटीक संकेत पहले ही मिल जाते हैं। पीएमआई 5 प्रमुख कारकों पर आधारित होता है। इन पांच प्रमुख कारकों में नई सूची, इनवेंटरी शरत, खाद, सपलाई उपलब्धता और रोजगार वातावरण शामिल हैं।

किस बात की जानकरी देती है पीएमआई इंडेक्स
पीएमआई की शब्दावली में इंडेक्स के 50 से ऊपर रहने का मतलब यह होता है कि संबंधित उद्योग में विकास हुआ। इंडेक्स के 50 से नीचे रहने का मतलब यह हुआ कि उद्योग में गिरावट आई। यह 50 से जितना नीचे या ऊपर होता है, उद्योग में उतनी ही अधिक गिरावट या विकास का पता चलता है। फरवरी के लिए यह पहला आधिकारिक आर्थिक संकेतक है, जो यह बता रहा है कि दुनिया की दूसरी अर्थव्यवस्थाओं पर भी वायरस का बुरा असर हो सकता है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *