• आर्थिक समीक्षा में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 6 से 6.5 प्रति ग्रोथ का अनुमान जताया गया था
  • कोरोना महामारी के कारण अधिकांश एजेंसियों ने जीडीपी ग्रोथ का अनुमान बी दिया है

दैनिक भास्कर

04 मई, 2020, 10:19 AM IST

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के कारण लागू लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था रहना सी गया है। इसको देखते हुए वित्त मंत्रालय वित्त वर्ष 2020-21 के लिए आर्थिक वृद्धि दर और बजट अनुमान के नए आंकड़े जारी करने पर विचार कर रहा है। वित्त मंत्रालय के अधिकारियों के हवाले से बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार, मौजूदा वित्त मंत्रालय में वित्त वर्ष में 2 से 3 प्रतिशत आर्थिक ग्रोथ का अनुमान लगाया गया है। यह आर्थिक समीक्षा के 6 से 6.5 प्रति के अनुमान से काफी कम है।

अंतिम आंकड़ों में परिवर्तन हो सकता है
रिपोर्ट के अनुसार, 23-24 अप्रैल को मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए 15 वें वित्त आयोग के सदस्य से सामने नए आंकड़े पेश किए थे। इस बैठक में शामिल होने के एक अधिकारी का कहना है कि अभी लॉकडाउन छठे सप्ताह में चल रहा है और इसे दो सप्ताह के लिए और बढ़ा दिया गया है। अधिकारी के मुताबिक मौजदा हालात काफी अनिश्चित और आयाम हैं। अभी कोरोना के नए मामलों को नीचे लाने पर स्थिति साफ नहीं है। ऐसे में अंतिम आंकड़ों में परिवर्तन हो सकता है।

जारी हो सकते हैं नए आंकड़े
अधिकारी के मुताबिक, जब तक कोरोना आपदा का दौर पूरी तरह से खत्म नहीं होगा, तब तक इसके आर्थिक असर को लेकर कुछ भी अनुमान नहीं लगाया जा सकता है। मौजूदा परिस्थितियों को देखा जाए तो जुलाई या इसके बाद ही कोरोना से राहत मिलने की उम्मीद दिख रही है। इसी कारण से आर्थिक अनुमान में लगातार बदलाव आ रहा है। जैसे ही कोई अंतिम अनुमान होगा, उसकी जानकारी सार्वजनिक रूप से दी जाएगी।

आर्थिक संकेतक में जिक्र किया गया था 6.5 प्रति जीडीपी ग्रोथ का अनुमान था
2019-20 के आर्थिक सर्वे में वित्त वर्ष 2020-21 में रियल जीडीपी ग्रोथ 6 से 6.5 प्रति रहने का अनुमान लगाया गया था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-21 के बजट में केंद्र की ओर से कुल 30.4 लाख करोड़ रुपये खर्च होने का प्रावधान किया। बजट में 24.23 लाख करोड़ रुपए का ग्रोस टैक्स रेवेन्यू, 2.12 लाख करोड़ रुपए के ऋवेश और जीडीपी का 3.5 फीसदी फिस्कल डेफेसिट का लक्ष्य रखा गया था। वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक कोरोना के आर्थिक प्रभाव के कारण यह सभी अनुमान और लक्ष्य अब बेकार हो गए हैं।

ज्यादातर एजेंसियों ने बया ग्राउंडहॉज रेट किया
कोरोना महामारी के कारण लागू लॉकडाउन को देखते हुए अधिकांश रेटिंग्स और अन्य एजेंसियों ने भारत का ग्रोथ दसवां दिन दिया है। दिसंबर जनवरी में एजेंसियों ने 4 से 6 प्रति के बीच ग्रोथ रेट का अनुमान जताया था, जिसे अब भाकर -0.50 से लगभग 4 प्रतिशत तक कर दिया गया है।

जीडीपी ग्राउंडोथ को एजेंसियों के अनुमान के बारे में

एजेंसी

पुराना अनुमान (%)

नया अनुमान (%)
नोमुरा (2020) 4.50 -0.50
फिच रेटिंग्स (2020-21) 5.10 2
मूडीज (2020) 5.30 2.50
गोल्डमैन सैशे (2020-21) 3.30 1.60
विश्व बैंक (2020-21) 6.10 1.5-2.8
आईएमएफ (2020-21) 5.80 2
एडीबी (2020-21) 6.50 4





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

%d bloggers like this: