उमर अकमल पर तीन साल का बैन लगा है

जहां बुकिंग में खेल ठपणप पड़ा है, वहीं हरियाणासथान में मैदान के बाहर दिग्‍गज एक अलग ही मैच खेल रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में कई विवादों के कारण स्मिथसन क्रिकेट खेल में छाया हुआ है।

नई दिलवाली विवादों से पाकिस्तान क्रिकेट का नाता जबरदस्त रहा है। कोरोनावायरस के कारणा दुनिया भर में क्रिकेट सहित पूरे खेल रुके हुए हैं, विवाद तो बहुत दूर, किसी भी देश से किसी भी खेल की कोई खबर नहीं आ रही है लेकिन पाकिस्तान में विवादों का खेल जारी है। बीते 10 दिनों में 6 बड़े विवाद खड़े हो गए हैं।

पहला विवाद : सबसे पहला विवाद उमर अकमल (उमर अकमल) का है। एक ज़मीन में उमर अकमल और अहमद शहजाद की तुलना विराट कोहली से की जाती थी, लेकिन एटट्यूड की समस्या की वजह से दोनों का करियर विराट के सामने आज बेहद मामूली बन कर रह गए। इस बार का उमर अकमल की धुंध ने उनका करियर लगभग खत्म कर दिया है। अकमल के खिलाफ मैच फिक्सिंग के आरोपों की जांच कर रहे पीसीबी ने एंटी करप्शन कोड के उल्लंघन में अकमल पर तीन साल का बैज लगा दिया। उन पर ये भी आरोप था कि उन्होंने बोर्ड को भ्रष्टाचार की जानकारी नहीं दी थी। इस फ़ैसले के बाद पूर्व पाकिस्तानी खिलाड़ी जुल्करनैन हैदर ने उमर अकमल पर एक और सनसनीखेज़ ख़ुलासा करते हुए कहा कि अकमल ने उन्हें एक मैच के दौरान फ़िक्सिंग करने के लिए कहा था। इतना कम नहीं था कि वरिष्ठ पत्रकार और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष दृम सेठी ने ख़ुलासा किया कि प्रतिबंधित बल्लेबाज़ उमर अकमल को मिर्गी के दौरे पड़ते हैं, लेकिन अकमल ने उपचार लेने तक से इनकार कर दिया था। सेठी ने आगे यह भी कहा कि अकमल को अनुशासन में रहना पसंद नहीं है। वे टीम के लिए नहीं खुद के लिए खेलते हैं। शील की देखभाल नहीं करते। प्रश्न ये कि जब पीसीबी के सर्वे आल को ये सब पता था तो अकमल ने लगातार पाकिस्तान क्रिकेट सर्किट में कैसे बने रहे?

शोएब अख्तर, शोएब अख्तर ट्रोल, क्रिकेट, खेल समाचार, शोएब अख्तर, शोएब अख्तर, क्रिकेट, क्रिकेट नॉटूज

शोएब अख्तर का पीसीबी पर बेहद गंभीर आरोप

दूसरा विवाद: भारतीय क्रिकेट क्रिकेट में दूसरा विवाद शोएब अख़्तर (शोएब अख्तर) और पीसीबी के क़ानूनी सलाहकार तफ़ज़्ज़ुल रिवी का है। वैसे भी विवादों की लिस्ट बनी और शोएब अख़्तर न हों ऐसा नामुमकिन है। शोएब अख़्तर ने पीसीबी की ओर से उमर अकमल पर लगाए गए बैन के बाद पीसीबी और उसकी कानूनी टीम के मुखिया तफ़ज़्ज़ुल रिज़वी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अकमल ने जो किया उस पर एक्शन होना चाहिए, लेकिन पीसीबी को खिलाड़ियों को संभालना नहीं आता है। पीसीबी की लीगल टीम को खिलाड़ियों की बेइज्जती करने में मज़ा आता है। तफ़ज़्ज़ुल रिवी का नाम लेते हुए अख्तर ने कहा कि इस नाकाबिल नालायक आदमी ने जानबूझ कर पाकिस्तान के महान क्रिकेटरों शाहीद आफ़रीदी और यूनुस ख़ान से कचहरियों के चक्कर लगवाए। अख्तर की भाषा से भड़के रिजवी ने तुरंत पीसीबी की तरफ से 10 करोड़ रुपये की मानहानि का मुक़दमा दायर कर दिया, लेकिन लगता है कि शोएब भी हथियार डालने के मूड में नहीं है। अख्तर ने कहा है कि रिवी का नोटिस झूठ और मनगढ़ंत बातों से भरा हुआ है। मैं रिज़वी के नालायक और नाकाबिल काम को लेकर दिए गए अपने बयान पर पकड़ हुआ हूं। इस लड़ाई में अख्तर को यूनुस और अफ़रीदी का साथ भी मिल गया है।तीसरा विवाद: विवादों की इस लिस्ट में तीसरे नंबर बासित अली का है। बासित अली भी उमर अकमल (उमर अकमल) की तरह जबरदस्त अवतार थे, लेकिन विवादों ने उनका करियर भी बेहद साधारण बना दिया। ताजा मामले में पीसीबी के पूर्व सीईओ आरिफ अब्बासी ने खुलासा करते हुए कहा कि पाकिस्तान के पूर्व कोच अरखाब आलम ने उन्हें कहा था कि बासित अली मैच फ़िक्स करते थे। बासित ने इसे बेकार करार देते हुए कहा कि ये आरोप बेबुनियाद है। वैसे बासित अली पर इन आरोपों की टाइमिंग दिलचस्प है क्योंकि आरिफ अब्बासी के बयान से कुछ ही पहले बासित ने एक इंटरव्यू में खुलासा करते हुए कहा था कि 1993 के आसपास दिग्गज बल्लेबाज़ जावेद मियांदाद को टीम से निकालने की ग़ैर ज़िम्मेदारी मिली थी, जो किसी और की है। ने नहीं बल्कि खुद आज के प्रधानमंत्री इमरान खान ने की थी। यही नहीं उन्होंने वसीम अकरम पर आरोप लगाया कि वह सिर्फ नाम के कप्तान थे। निर्णय तो इमरान ही लेते थे।

क्रिकेट समाचार, खेल समाचार, पाकिस्तान क्रिकेट टीम, पीसीबी, सलीम मलिक, आईसीसी, आजीवन प्रतिबंध, पाकिस्तान के कप्तान, क्रिकेट जर्सी, खेल, सलीम मलिक, पाकिस्तान क्रिकेट टीम, साइकिल, आईसीसी, मैच फिक्सिंग, लाइफटाइम बैन

मैच फिक्सिंग के लिए सलीम मलिक पर लगा था आजीवन बाण

चौथा विवाद: यह विवाद पाकिस्तान के पूर्व कप्ताल सलीम मालिक का है। मलिक ने मैच फिक्सिंग के कारण उन पर लगा आजीवन प्रतिबंध हटाने का अनुरोध किया है ताकि वह कोचिंग का अपना ख्वाब पूरा कर सकें। मलिक को 2000 में मैच फ़िक्सिंग का दोषी पाया गया था, जिसके बाद उन पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया था। वसीम अकरम की तरफ इशारा करते हुए सलीम मलिक ने कहा कि भ्रष्टाचार के दोषी अन्य खिलाड़ियों को खेल में सुधार की अनुमति दी गई, लेकिन उन्हें नहीं। यूं तो पाकिस्तान के जियादातर पूर्व खिलाड़ियों ने मालिक की मुख्ल्फ़त की है लेकिन बॉस के सूर में सुर मिलाते हुए पाकिस्तान के पूर्व कप्तान रहे इंज़माम उल हक़ ने कहा कि मुझे लगता है कि सलीम मालिक को दूसरा मौका देना चाहिए, ताकि वह देश के लिए कुछ करे कर सकते हैं, वह युवा बल्लेबाजों के लिए अच्छी कोचिंग कर सकते हैं। पाकिस्तान पाकिस्तान क्रिकेट से जुड़े लोग बताते हैं कि मालिक ये सब कोशिशें अपने लिए न करके अपने बेटे के लिए कर रहे हैं जो एक उभरता हुआ क्रिकेटर है, जिससे मलिक के कारनामों की आंच उनके बेटे पर न पड़े।

पांचवा विवाद: यह वसीम अकरम (वसीम अकरम) से जुड़ा विवाद है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के पूर्व चेयरमैन खालिद महमूद ने कहा कि पूर्व तेज़ गेंदबाज़ अताउर्ररहमान ने उनके सामने ये स्वीकार किया था कि उसे फ़िक्सिंग के लिए पैसे की पेशकश सही अकरम की तरफ़ से ही की गई थी। महमूद के मुताबिक़ रहमान ने ये बात जस्टिस कय्यूम के सामने दिए लिखित एफ़िडेविट में भी कही थी कि अकरम ने रहमान को मैचों में हर बार ख़राब गेंदबाज़ी के लिए 2 से 3 लाख रुपये देने की बात कही थी। पाकिस्तान हाई कोर्ट के जज रहे मलिक मोहम्मद कय्यूम की एक रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया था कि अकरम ने कमीशन की जांच में सहयोग नहीं किया था। 90 के दशक के आखिरी के वर्षों में ये सभी बातें आईं हैं लेकिन एक बार फिर से आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है।

छठा विवाद: पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर अब्दुल रज़्ज़ाक ने बिन मांगे सलाह देते हुए कहा कि भारतीय ऑल राउंडर हार्दिक पंड्या (हार्दिक पंड्या) को वर्ल्ड क्लास क्रिकेटर बनने के लिए अभी काफ़ी मेहनत करने की ज़रूरत है। इसके साथ ही उन्होंने एक नई बहस को भी छेड़ दिया है।

पूर्व पाक विकेटकीपर का खुलासा, अकमल के कारण सीरीज के बीच में होटल से गायब

कोहली के बारे में एक शब्‍द कहने के लिए कहा, तो पाक दिग्‍गज ने ऐसा जवाब दिया

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए क्रिकेट से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 3 मई, 2020, 12:39 अपराह्न IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: