• कोरोना संक्रमण के बाद दुनिया में सोने की मांग बढ़ी है
  • आपके कुल निवेश का लगभग 10% सोना चाहिए

दैनिक भास्कर

03 मई, 2020, 11:13 AM IST

नई दिल्ली। इतिहास गवाह है कि जब भी शेयर बाजार में नुकसान की आशंका हो, डॉलर की तुलना में अन्य मुद्रा कमजोर पड़ने की नौबत हो तो सोने के भाव में उछाल देखा जाता है। भारत में सोने का मूल्य 1965 की तुलना में अभी 746 गुना ज्यादा है। कोरोना संक्रमण के बाद दुनिया में सोने की मांग बढ़ी है और जब भी सोने का दाम पिछले उच्च स्तर के ऊपर गया है, उसकी गति में अप्रत्याशित तेजी है। इतना तय है कि 3 से 5 साल की अवधि के लिए सोने में निवेश अप्रत्याशित लाभ दे सकता है।

कहां करें निवेश
एचडीएफसी जैसे बैंक डिजिटल गोल्ड सुविधा देते हैं जिसमें 1000 रुपए से शुरू कर घर बैठे सोने में निवेश कर सकते हैं। जब आप चाहें, आप इनकी जगह बैंक से फिजिकल सोना भी प्राप्त कर सकते हैं।

कितना निवेश
आपके कुल निवेश का लगभग 10% सोना होना चाहिए। मौजूदा समय में आप अपने सामर्थ्य के हिसाब से निवेश बढ़ा सकते हैं।

80 हजार प्रति दस ग्राम पहुंच की कीमत हो सकती है
पढ़ाई में फैल चुके कोरोनावायरस संक्रमण के कारण शेयर बाजार और बॉन्ड में गिरावट का माहौल बना हुआ है। मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए निवेशकों ने अब सोने में निवेश बढ़ा दिया है। इससे सोने की कीमतों में लगातार उछाल जारी है। इस बीच बैंक ऑफ अमेरिका सिक्युरिटीज (बोफा सेक) के विश्लेषकों ने अनुमान लगाया है कि 2021 के अंत तक आंतरिक रेस्तरां में सोने की कीमत 3000 डॉलर प्रति औंस तक हो सकती है। 3000 डॉलर को यदि आज के भारतीय रुपए में परिवर्तित किया जाए तो यह राशि 2,28,855 रुपए बैठती है।

आंतरिक बाजार में सोने का भावों के हिसाब से तय होता है। एक औंस में 28.34 ग्राम वजन होता है। ऐसे में एक ग्राम सोने की कीमत 8075 रुपए होती है। इस पास से 10 ग्राम सोने की कीमत 80,753 रुपए होती है। सामान्य तौर पर भारत में सोने का कारोबार प्रति 10 ग्राम के आधार पर होता है। शुक्रवार दोपहर को मल्टी कमोडिटी एक्सर ((एक्सएक्स) पर जून का सोने का वायदा भाव 46,731 रुपये प्रति दस ग्राम पर कारोबार हो रहा है। ऐसे में भारत में अगले डेढ़ साल में लगभग 75 फीसदी की तेजी हो सकती है। आंतरिक बाजार में अभी तक 1750 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा है।

ऑफ़लाइन खरीद सोना हो सकता है
आप 3 तरह से गोल्ड खरीद सकते हैं

फीजिकल जी.पी.
आप इसे आभूषण या सोने के बिस्कुट और ज्वैलर्स के सिक्कों के रूप में खरीद सकते हैं। जुलेर्स के अलावा, आप कुछ विशेष बैंकों से भी सोने के सिक्के खरीद सकते हैं। कई ज्वैलर्स आपको अनलिमिटेड गोल्ड खरीदने की भी सुविधा देते हैं। ये सोना आपके घर पहुंचा दिया जाता है।

गोल्ड एक्स-ट्रेडेड फंड्स (ETF)
सोने को शेयरों की तरह खरीदने की सुविधा को गोल्ड ईटीएफ कहते हैं। यह म्यूचुअल फंड की स्कीम है। ये एक्स-ट्रेडेड फंड हैं जिन्हें स्टॉक एक्सचेंजों पर खरीदा और बेचा जा सकता है। चूंकि गोल्ड ईटीएफ का बेंचमार्क डिस्प्ले गोल्ड की दुकानों में है, आप इसे सोने की असली कीमत के करीब खरीद सकते हैं। गोल्ड ईटीएफ खरीदने के लिए आपके पास एक आठ डीमैट खाता होना चाहिए। इसमें सोने की खरीद इकाई में की जाती है। यह बेचने पर आपको सोना नहीं बल्कि उस समय के बाजार मूल्य के बराबर राशि मिलती है। यह सोने में निवेश के सबसे सस्ते विकल्पों में से एक है। इसकी खरीद इकाई में की जाती है। आमतौर पर ईटीएफ के लिए डीमैट खाता जरूरी होता है। इन शेयरों की तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कैश मार्केट में खरीदा-बेचा जा सकता है। इसमें न्यूनतम न्यूनतम साइज नहीं होता है। गोल्ड ईटीएफ की एक यूनिट एक ग्राम सोने के बराबर होती है। निवेशक इसकी इकाइयों को एकमुश्त या फिर व्यवस्थित इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के जरिये थोड़ा-थोड़ा भुगतान कर सकते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड
ये बॉन्ड भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा भारत सरकार की ओर से जारी किए जाते हैं और स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेड किए जाते हैं। आप एक ग्राम भी सोने की खरीद कर सकते हैं। सोवरन गोल्ड मीटर एक सरकारी मीटर होता है। इसे डीमैट रूप में संशोधित किया जा सकता है। इसका मूल्य रुपए या डॉलर में नहीं होता है, बल्कि सोने के वजन में होता है। यदि पाँच ग्राम सोने का है, तो पाँच ग्राम सोने की जितनी कीमत होगी, उतनी ही मीटर की कीमत होगी। इसे खरीदने के लिए सेबी के अधिकृत ब्रोकर को इश्यू क्वालिटी का भुगतान करना होता है। टिकट को भुनाते जब पैसा निवेश के खाते में जमा हो जाता है। यह भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) सरकार की ओर से जारी करता है। सरकार ने अगले 6 महीने में यानी 20 अप्रैल से लेकर 4 सीबंर तक 6 गुना सॉवरन गोल्ड बॉन्ड (सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड) जारी करने का फैसला किया है। टाइमलाइन के मुताबिक, बॉन्ड सितंबर तक 6 किस्तों में जारी किए जाएंगे। इन्हे बैंकों और बडे डाकघरों से रोज संभव हो रहा है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: