• पाकिस्तान इन आतंकवादियों पर कार्रवाई का ढोंग दिखाता एफएटीएफ की ब्लैक लिस्ट में जाने से बचा था
  • कोरोना महामारी के नेतृत्व में पाकिस्तान को लेकर 20 जून को होने वाली एफएटीएफ की बैठक टल गई है

दैनिक भास्कर

02 मई, 2020, 08:32 बजे IST

इस्लामाबाद / नई दिल्ली। कोरोना महामारी की आड़ में पाकिस्तान ने हाफिज सईद सहित कई आतंकवादियों को जेल से छोड़ दिया है, जिन पर कार्रवाई का ढोंग दिखाता है वह फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की कॉलकलिस्ट – जाने के लिए बचा था। अब जेल से बाहर आकर लश्कर-ए-तैयबा सहित कई संगठनों के दहशतगर्द भारत के खिलाफ न्यूट्रिंग्स की तैयारी में जुटे हैं।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री ने पिछले महीने ट्वीट कर बताया था कि लाहौर जेल में लगभग 50 कैदी कोरोना पॉजिटिव मिले।) इस मौके को भुनाते हुए पाकिस्तान ने आतंकवादियों को तुरंत छोड़ दिया। अभी दुनिया का ध्यान कोरोना से लड़ाई में लगा हुआ है। पाकिस्तान इसका फायदा उठाकर जमीनी हकीकत को छुपा रहा है।

कोरोना के जून में होने वाली एफएटीएफ की बैठक टली
एफएटीएफ ने अभी तक पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखा हुआ है। इस वर्ष की शुरुआत में पाकिस्तान पर एफएटीएफ की बैठक होनी थी। कोरोनावायरस के कारण यह बैठक दो बार टाली गई है। जून में होने वाली यह बैठक के अब अक्टूबर में होने का अनुमान है। इसमें एफएटीएफ यह देखेगा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए क्या कदम उठाए हैं? संतुष्ट न होने पर एफएटीएफ पाकिस्तान को बचानेकलिस्ट में भी डाल सकता है।

कश्मीर में आतंकी घटनाओं में अचानक तेजी आई
हाल ही में जम्मू-कश्मीर में आंतकी घटनाओं में तेजी से वृद्धि हुई है। इस दैरान पाकिस्तानी सेना द्वारा घुसपैठ करने के लिए लगातार सीजफायर का उल्लंघन भी कर रहा है। कोरोनावायरस से लड़ने की जगह पाकिस्तान का ध्यान कश्मीर में आतंकवाद बढ़ाने पर है।

कुछ दिनों पहले ही न्यूज एजेंसी ने पाकिस्तानी सेना की 2020 ग्रीन बुक 2020 ‘का खुलासा किया था। ग्रीन बुक पाकिस्तान की सेना का एक आत्मविश्वास प्रकाशन है। पाकिस्तान सेना प्रमुख के विचारों के अलावा इसमें सुरक्षाबलों के विशेषज्ञ और देश के रणनीतिक विचारकों के लेख शामिल हैं। इस पुस्तक में भारत के खिलाफ दुष्प्रचार करने, कश्मीर में आतंकवादियों को फिर से मजबूती देने और भारतीय बुद्धजीवियों की ओर से की गई सरकार की आलोचना को हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने की बात कही गई थी।

टेरर वॉच लिस्ट से आतंकवादियों के नाम हटाए गए
न्यूयॉर्क की एक रिज्यूलेटरी कंपनी एक कस्तेलम। एआई ‘ने खुलासा किया था कि पाकिस्तान ने अपने टेटर वॉच लिस्ट से हजारों आतंकवादियों के नाम हटा दिए हैं। इसमें मुंबई हमले का मास्टर माइंड और लश्कर-ए-तैयबा कांदर जकी-उर-रहमान लखवी शामिल था। इस रिपोर्ट के अनुसार, 2018 में पाकिस्तान की टेरर वाच लिस्ट में 7600 आतंकवादियों के नाम थे। 18 महीने में ये घटकर 3800 हो गए हैं। मार्च की शुरुआत से अब तक लगभग 1800 नाम हटाए जा चुके हैं। इन नामों को हटाने की वजह भी नहीं बताई गई।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: