• पीलिंग नेता आरिफ वजीर के परिवार के सात लोगों की 2017 में हत्या हुई थी
  • सप्ताह भर पहले स्वीडन में ब्लूचिस्तान टाइम्स के शेफ एडिटर का भी शव मिला था

दैनिक भास्कर

02 मई, 2020, शाम 06:22 बजे IST

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में पख्तून तहफ्फुज मूवमेंट (पीठासीन) के नेता आरिफ वजीर की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की खबर के मुताबिक, वजीर एक महीने पहले जमानत पर जेल से बाहर आए थे। खैबर पख्तूनख्वा जिले के वाना में शुक्रवार को उन्हें घर के बाहर ही गोली मारी गई थी। शनिवार को इस्लामाबाद के एक अस्पताल में उनकी मौत हो गई।
आरिफ वजीर के भाई मुहम्मद अली वजी ने बताया कि उन्हें तीन गोली मारी गई थीं। गोली मारने वालों का पता नहीं चल रहा है। पुलिस एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। 2017 में वजीर के परिवार के सात सदस्य आतंकवादियों के साथ हुए संघर्ष में मारे गए थे। इसी तरह एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा है कि अधिकारियों को आरिफ वजीर पर हमले की निष्पक्ष जांच करनी चाहिए।

पीटीएम पख्तूनों के मानवाधिकारों की आवाज़ उठाता है

पख्तून तहफफुज मूवमेंट (पीटी) पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान डोमों में जाने वाली सामाजिक अन्दोलन है। इसका मकसद पख्तूनों के मानवाधिकारों की रक्षा करना है। पाक सेना खैबर-पख्तूनख्वा और बूलचिस्तान में लोगों पर अत्याचार करती है। यह संगठन पाकिस्तानी सेना और सरकार के खिलाफ आवाज उठाता रहा है। संगठन ने अचानक से गायब होने वाले लोगों और हत्याओं को लेकर सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

पिछले सप्ताह स्वीडन में बलूचिस्तान टाइम्स के शेफ एडिटर का शव मिला था
23 मार्च को स्वीडन में बलूचिस्तान टाइम्स के शेफ एडिटर साजिद हुसैन का शव बरामद हुआ था। वह दो मार्च से लापता थे। बलूच नेताओं ने हत्या के पीछे पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI का हाथ होने की आशंका जताई है। साजिद पाकिस्तानी सेना और आईएसआई का अत्याचार सह कर बलूच लोगों की आवाज उठाते रहे हैं, जिसके चलते उन्हें धमकियां मिली थीं। सरकार और ISI की धमकियों के कारण साजिद ने 2012 में पाकिस्तान छोड़ दिया था। वह 2017 से स्वीडन में शरणार्थी के तौर पर रह रहे थे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: