न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पिथौरागढ़
अपडेटेड शुक्र, 08 मई 2020 11:16 AM IST

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
– फोटो: एएनआई

ख़बर सुनता है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैलाश मानसरोवर के लिए लिस्ट रोड का उद्घाटन किया। इस अवसर पर शेफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और थल सेना अध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवाना भी उपस्थित थे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सड़क तक सड़क संपर्कक को बड़ी उपलब्धि बताई। कहा कि सड़क का राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान होता है। बीआरओ की सराहना की और कहा कि लिपुलेख तक सड़क बनने से कैलाश यात्रा सुगम होगी। स्थानीय लोगों को भी सड़क सुविधा मिलेगी।

भारत चीन व्यपाप को गति मिलेगी। विकास को बल मिलेगा। इस दौरान उन्होंने सड़क निर्माण में जान गवाने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी और परिवारों के प्रति संवेदना जताई। फ्लैग आफ करने के बाद बीआरओ के वाहन गुंजी के लिए रवाना हुए।

तवाघाट से लिपुलेख तक सड़क बनने से सीमा सुरक्षा तंत्र भी मजबूत होगा। तवाघाट से लिपुलेख तक कुल 95 किमी। लंबी सड़क की कटिंग कार्य को पूरा कर लिया गया है। चीन सीमा के करीब शेष तीन किमी। की कटिंग का काम सुरक्षा की दृष्टि से अभी छोड़ दिया गया है। चीन की सीमा तक सड़क की कुल लंबाई 95 किमी है। होगी।

शनिवार से सेना और सैन्य सैनिकों की गाड़ियों को संचालन की अनुमति होगी। आम लोगों के वाहनों को कुछ दिनों बाद अनुमति दी जा सकती है। सड़क के बनने से कैलाश मानसरोवर यात्रा, छोटी कैलाश यात्रा सहित माइग्रेशन पर जाने वाले लोगों के लिए राह आसान होगी।

इसके अलावा रणनीतिक महत्व की दृष्टि से भी सड़क का निर्माण महत्वपूर्ण है। सेना और अर्धसैनिक बलों के जवानों को भी आवाजाही में सुविधा मिलेगी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैलाश मानसरोवर के लिए लिस्ट रोड का उद्घाटन किया। इस अवसर पर शेफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और थल सेना अध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवाना भी उपस्थित थे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सड़क तक सड़क संपर्कक को बड़ी उपलब्धि बताई। कहा कि सड़क का राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान होता है। बीआरओ की सराहना की और कहा कि लिपुलेख तक सड़क बनने से कैलाश यात्रा सुगम होगी। स्थानीय लोगों को भी सड़क सुविधा मिलेगी।

भारत चीन व्यपाप को गति मिलेगी। विकास को बल मिलेगा। इस दौरान उन्होंने सड़क निर्माण में जान गवाने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी और परिवारों के प्रति संवेदना जताई। फ्लैग आफ करने के बाद बीआरओ के वाहन गुंजी के लिए रवाना हुए।


आगे पढ़ें

सेना और सेना के जवानों की गाड़ियां के संचालन की अनुमति होगी





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *