• सरिता कोमितारेद्धि वर्तमान वर्तमान में पूर्वीय जिले के लिए यूनाइटेट स्टेट्स अटॉर्नी कार्यालय में सामान्य आपराधिक मामलों की उप प्रमुख हैं।
  • हार्वर्ड लॉ स्कूल से ला ग्रैजेट सरिता ने अपने करियर की शुरुआत कोलंबिया अपील कोर्ट के एक जज के क्लर्क के तौर पर की थी

दैनिक भास्कर

05 मई, 2020, 05:16 PM IST

वॉशिंगटन। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारतवंशी वकील सरिता कोमितरेहधि को जज के तौर पर नियुक्त करने के लिए नामित किया। इसके बाद वे न्यूयॉर्क के फेडरल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में अपनी सेवाएं देंगी। वे इसी कोर्ट के पूर्व जज ब्रेट कैवनॉ के क्लर्क के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं। व्हाइट हाउस के मुताबिक, ट्रम्प ने सरिता का नोमिनेशन सोमवार को सिनेट के पास भेज दिया था। सरिता कोलंबिया लॉ स्कूल में कानून पढ़ाती भी हैं।फिलहाल वह न्यूयॉर्क पूर्वी जिले के लिए यूनाइटेट स्टेट्स अटॉर्नी कार्यालय में सामान्य आपराधिक मामलों की उप प्रमुख हैं।
सरिता हार्वर्ड लॉ स्कूल से लॉ ग्रैजेट हैं। ग्रैज्यूशन पूरा होने के बाद उन्होंने कोलंबिया के अपील कोर्ट में तात्कालीन जज ब्रेट कैवनॉ की क्लर्क के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी।

सरिता कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवाएं दे चुकी हैं

वे जून 2018 से जनवरी 2019 तक आंतरिक नार्कोटिक्स और मैन लॉन्ड्रिंग मामलों की कार्यवाहक उपप्रमुख रही। 2016 से 2019 तक उन्होंने कंप्यूटर हैकिंग और बौद्धिक संपदा समन्वयक के पद पर सेवाएं दी। वे बीपी डीपवॉटर हॉरिजन ऑयल स्पिल एंड ओशोर ड्रिलिंग पर राष्ट्रीय आयोग की वकील रही है। ट्रंप ने इस साल 12 फरवरी को उन्हें जिला जज के तौर पर नामित करने का ऐलान किया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *