चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो)
– फोटो: फेसबुक

ख़बर सुनता है

चीन के सामाजिक कार्यकर्ता यांग झानकिंग को संक्रमण के दबावेंटर वुहान शहर से लगातार ऐसे लोगों के संदेश मिल रहे थे, जिनके परिजन इस महामारी का शिकार हुए थे। ये सभी यांग से सरकार के खिलाफ मुकदमे में मदद की गुहार लगा रहे थे। लेकिन, हफ्तों की योजना पर काम करने के बाद अचानक अप्रैल के अंत में सभी ने केस से इनकार कर दिया। यांग के कहते हैं, इनमें से कम से कम दो को पुलिस ने सीधे बुलायाकर धमकाया था।

यांग ने दावा किया है कि संक्रमण के स्रोत को लेकर सवालों के घेरे में आया चीन वैश्विक दबाव बढ़ने से रोकने के लिए आवाजें दबा रहा है। वकीलों को सरकार के खिलाफ मुकदमा न करने की चेतावनी दी जा रही है, तो अन्य पीड़ितों से संपर्क करने वाले भुक्तभोगी लोगों को बुलायाकर इंटर करते हुए धमकाया जा रहा है। जो वालंटियर सरकार की तरफ से खा की गई खबरों को संरक्षित करने का प्रयास कर रहे थे, उन्हें गायब कर दिया जा रहा है।

अपने कथित सरकार विरोधी काम के लिए बुलाकर धमकाए जाने के बाद भागकर अमेरिका आ गए यांग आजकल न्यूयार्क में रहते हैं। उनका कहना है कि वे (चीनी सरकार) चिंतित हैं कि यदि लोगों ने अपने अधिकारों के लिए आवाज उठानी चालू कर दी तो तो आंतरिक समुदाय वुहान की असली हकीकत और वहां के परिवारों के महामारी से निपटने के अनुभव का सच जान जाएगा।

चीन के सामाजिक कार्यकर्ता यांग झानकिंग को संक्रमण के दबावेंटर वुहान शहर से लगातार ऐसे लोगों के संदेश मिल रहे थे, जिनके परिजन इस महामारी का शिकार हुए थे। ये सभी यांग से सरकार के खिलाफ मुकदमे में मदद की गुहार लगा रहे थे। लेकिन, हफ्तों की योजना पर काम करने के बाद अचानक अप्रैल के अंत में सभी ने केस से इनकार कर दिया। यांग के कहते हैं, इनमें से कम से कम दो को पुलिस ने सीधे बुलायाकर धमकाया था।

यांग ने दावा किया है कि संक्रमण के स्रोत को लेकर सवालों के घेरे में आया चीन वैश्विक दबाव बढ़ने से रोकने के लिए आवाजें दबा रहा है। वकीलों को सरकार के खिलाफ मुकदमा न करने की चेतावनी दी जा रही है, तो अन्य पीड़ितों से संपर्क करने वाले भुक्तभोगी लोगों को बुलायाकर इंटर करते हुए धमकाया जा रहा है। जो वालंटियर सरकार की तरफ से खा की गई खबरों को संरक्षित करने का प्रयास कर रहे थे, उन्हें गायब कर दिया जा रहा है।

अपने कथित सरकार विरोधी काम के लिए बुलाकर धमकाए जाने के बाद भागकर अमेरिका आ गए यांग आजकल न्यूयार्क में रहते हैं। उनका कहना है कि वे (चीनी सरकार) चिंतित हैं कि यदि लोगों ने अपने अधिकारों के लिए आवाज उठानी चालू कर दी तो तो आंतरिक समुदाय वुहान की असली हकीकत और वहां के परिवारों के महामारी से निपटने के अनुभव का सच जान जाएगा।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *