• इस वर्ष के अर्जुन अवॉर्ड और खेल रत्न के लिए जनवरी 2016 से दिसंबर 2019 तक के प्रदर्शन पर विचार किया जाएगा
  • पिछली बार पैरालिम्पिक में रजत पदक जीतने वाली दीपा मलिक और रेसलर बजरंग पूनिया को राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड मिला था।

दैनिक भास्कर

05 मई, 2020, शाम 06:32 बजे IST

खेल मंत्रालय ने कोरोनावायरस की वजह से इस बार राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के दावेदारों से नामांकन ई-मेल से मंगाए हैं। आमतौर पर नामांकन भेजने की प्रक्रिया अप्रैल में ही शुरू हो जाती है। लेकिन इस बार लॉकडाउन की वजह से मई में आवेदन मांगे गए हैं।
मंत्रालय ने इसके लिए सर्कुलर जारी किया है। इसके अनुसार, कोरोनावायरस महामारी के कारण पूरा देश लॉकडाउन है। ऐसे में नामांकन के दस्तावेज डाक के जरिए भेजने की बजाए दावेदार संबंधित एसोसिएशन के अधिकारियों की सिफारिश से जुड़े दस्तावेज और आवेदन की स्कैन कॉपी ई-मेल के जरिए सीधे खेल मंत्रालय को भेजे।

नामांकन जमा करने की अंतिम तिथि तीन जून

अंतिम नामांकन जमा करने की तिथि 3 जून तय की गई है। इसके बाद यदि कोई भी कोच और खिलाड़ी नामांकन नहीं है तो उसका नाम पर विचार नहीं किया जाएगा।

खेल दिवस पर राष्ट्रपति देते हैं ऑड

हर साल 29 अगस्त को हिल खिलाड़ी मेजर ध्यान चंद की जयंती पर राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर राष्ट्रपति भवन में आयोजित किए गए समारोह में राजीव गांधी खेल रत्न, अर्जुन अवॉर्ड, द्रोणाचार्य अवॉर्ड और ध्यानचंद प्रतिष्ठित दिया जाता है।

कोचिंग में योगदान के लिए द्रोणाचार्य डिग्री

खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड खिलाड़ियों को दिए जाते हैं, जबकि द्रोणाचार्य कोचिंग के क्षेत्र में योगदान के लिए दिया जाता है। इसके अलावा ध्यान चंद पुरस्कार लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए मिलता है। इस वर्ष के अर्जुन अवॉर्ड और खेल रत्न के लिए जनवरी 2016 से दिसंबर 2019 तक के प्रदर्शन पर विचार किया जाएगा।
डोपिंग में फंसे खिलाड़ी आवेदन नहीं कर सकते
ऐसे खिलाड़ी राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिए आवेदन नहीं भेज सकते हैं, जिन्हें नेशनल एंट डोपिंग एजेंसी यानी नाडा ने डोपिंग का दोषी पाया हो या उनके खिलाफ जांच चल रही हो।
पिछले साल पहलवान बजरंग पूनिया को खेल रत्न मिला था
खेल रत्न भारत का सर्वोच्च खेल पुरस्कार है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर इसका नाम रखा गया है। हर साल देश के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी को यह दिया जाता है। पुरस्कार के साथ खिलाड़ी को 7.5 लाख रुपए और एक प्रतिमा दी जाती है। वहीं, अर्जुन अवॉर्ड जीतने वाले खिलाड़ी को पांच लाख रुपए दिए जाते हैं।

पिछले साल पैरालिंपियन दीपा मलिक और पहलवान बजरंग पूनिया को यह उपाधि मिली थी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *