न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई
अपडेट किया गया बुध, 06 मई 2020 09:59 PM IST

स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन (फाइल फोटो)
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने कहा है कि देश में को विभाजित -19 से सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में कोरोना महामारी की स्थिति बेहद चिंताजनक है। राज्य के 36 में से 34 जिले में संक्रमण से प्रभावित हैं। राज्य में कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आगे की रणनीति पर मैं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात करूंगा।

उन्होंने कहा कि मुंबई, पुणे, नागपुर, नागपुर, नासिक, औरंगा, शोलापुर सहित सभी जिलों में हालात बिगड़ रहे हैं, जो हमारे लिए बेहद चिंता की बात है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, केंद्र सरकार का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि महाराष्ट्र के जिलों से कोई नया मामला नहीं आए। इसके लिए आने वाले दिनों में राज्य सरकार को हरसंभव मदद की जाएगी।

बता दें कि मौजूदा समय में महाराष्ट्र में 1026 कन्टमेंट जोन हैं। केंद्र और डॉक्टरों की टीम मौजूद है और जरूरत के हिसाब से मदद करने को तैयार है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र में बुधवार तक 15,525 मामले मिल चुके हैं। इनमें से 617 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 2819 लोग ठीक हो चुके हैं या इलाज के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं।)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने कहा है कि देश में को विभाजित -19 से सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में कोरोना महामारी की स्थिति बेहद चिंताजनक है। राज्य के 36 में से 34 जिले में संक्रमण से प्रभावित हैं। राज्य में कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आगे की रणनीति पर मैं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात करूंगा।

उन्होंने कहा कि मुंबई, पुणे, नागपुर, नागपुर, नासिक, औरंगा, शोलापुर सहित सभी जिलों में हालात बिगड़ रहे हैं, जो हमारे लिए बेहद चिंता की बात है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, केंद्र सरकार का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि महाराष्ट्र के जिलों से कोई नया मामला नहीं आए। इसके लिए आने वाले दिनों में राज्य सरकार को हरसंभव मदद की जाएगी।

बता दें कि मौजूदा समय में महाराष्ट्र में 1026 कन्टमेंट जोन हैं। केंद्र और डॉक्टरों की टीम मौजूद है और जरूरत के हिसाब से मदद करने को तैयार है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र में बुधवार तक 15,525 मामले मिल चुके हैं। इनमें से 617 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 2819 लोग ठीक हो चुके हैं या इलाज के बाद डिस्चार्ज किए गए हैं।)





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *