• इसमें विप्रो, इन्फोसिस, कॉग्निजेंट, गूगल और फेसबुक के कर्मचारियों की डिटेल भी थी
  • अनएकेडमी को फेसबुक, जनरल अटलांटिक और सिक्वॉइअ की तरफ से लगभग 835 करोड़ रुपए की फंडिंग मिली है

दैनिक भास्कर

07 मई, 2020, 03:15 बजे IST

नई दिल्ली। यूएस-बेस्ड सिक्योरिटी फर्म साइबल (साइबल) के मुताबिक, भारत का ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म अनएकेडमी चैट हो गया है। हैकर्स ने इसके सर्वर को किराये द्वारा 22 मिलियन (लगभग 2.2 करोड़) से अधिक छात्रों की जानकारी चुरा ली है। अब इस डिटेल को डार्क वेब पर ऑनलाइन बेचा जा रहा है। ये विप्रो, इन्फोसिस, कॉग्निजेंट, गूगल और फेसबुक के कर्मचारियों की डिटेल भी थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जनवरी में कंपनी को एक ब्रीच का सामना करना पड़ा था। वहीं, इन शैराए गए कॉन्टैक्ट्स को 3 मई को 2000 डॉलर (लगभग 1.5 लाख रुपए) में बिक्री के लिए रखा गया था। बता दें कि अनएकेडमी को हाल ही में फेसबुक, जनरल अटलांटिक और सिक्वॉइअ की तरफ से 110 मिलियन डॉलर (लगभग 835 करोड़ रुपए) की फंडिंग मिली है।

डेटा में यूजर्स की कई महत्वपूर्ण जानकारी शामिल हैं
रिपोर्ट के मुताबिक अनएकेडमी की वेबसाइट से जो डेटा लीक हुआ है उसमें स्टूडेंट्स का यूजरनेम, पासवर्ड, लॉगिन डेट, ई-मेल आईडी, पूरा नाम, अकाउंट स्टेट्स और अकाउंट प्रोफाइल जैसे कई महत्वपूर्ण बदलाव शामिल हैं। बता दें कि अनएकेडमी की मार्केट वेल्यू 500 मिलियन डॉलर (करीब 3,798 करोड़ रुपए) है।

कंपनी ने डेटा लीक की पुष्टि की है
इस बारे में अनएकेडमी के सह-संस्थापक और शेफ टेक्निकल ऑफिसर (कठोरता) हेमेश सिंह ने कहा, “हम डेटा लीक की पुष्टि करते हैं, लेकिन स्टूडेंट्स का डेटा पूरी तरह सुरक्षित है। हम स्थिति को महसूस से देख रहे हैं। हम मानते हैं। कि 11 मिलियन छात्रों की कुछ विशेषताओं लीक हुई हैं। हम डेटा को एएनसीड रखने के लिए PBKDF2 एल्गोरिदम का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही ओटीपी बेस्ड लॉगिन सिस्टम का इस्तेमाल भी करते हैं। हैं। “

साइबल के अनुसार, हैकर्स स्टूडेंट्स का डेटा सिर्फ बिक्री के लिए डाल रहे हैं। इस बीच, अनएकेडमी ने स्टूडेंट्स और टीचर्स से अपने पासवर्ड को तुरंत बदलने की सिफारिश की है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *